अपने बयानों को लेकर सुर्खियों में रहने वाले लोकसभा सांसद असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी आल इण्डिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलमीन (एआईएमआईएम) उत्तर प्रदेश विधानसभा की सभी 403 सीटों पर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही है।

इस बाबत रविवार को पार्टी के जिलाध्यक्षों की आवश्यक बैठक बुलाई गई है। बैठक में दलितों और मुस्लिमों को अपने साथ जोड़ने की रणनीति पर विचार किया जाएगा। इसके साथ ही कई अन्य मुद्दों पर भी चर्चा होगी।

एआईएमआईएम के प्रदेश अध्यक्ष शौकत अली का कहना है कि सूबे में दलित और मुस्लिमों का करीब 50 फीसदी मत है। यह दोनों ही अगर एक राजनीतिक मंच पर आ जाएं तो इनकी समस्याएं हल हो सकती हैं।

उन्होंने कहा कि पार्टी सभी 403 सीटों पर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही है, लेकिन अभी तय नहीं है कि कितनी सीटों पर उम्मीदवार उतारे जाएंगे? ज्यादा से ज्यादा सीटों पर पार्टी उम्मीदवार उतारेगी।

अली ने कहा कि समाजवादी पार्टी सरकार की खामियों को लेकर हम जनता के बीच जाएंगे। उन्हें उम्मीद है कि जनता उनकी सुनेगी और सटीक निर्णय लेगी। उन्होंने कहा कि पार्टी अध्यक्ष ओवैसी का जल्द ही सूबे में दौरा होने वाला है। ओवैसी अपने दौरे में समाज के निचले तबके से मिलेंगे ताकि उनकी समस्याओं से रुबरु होकर उसका हल निकाला जा सके।

प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि कल होने वाले बैठक के जरिए यह संदेश देने की कोशिश की जाएगी कि उनकी पार्टी अकेले चुनाव लड़ेगी, क्योंकि कांग्रेस, समाजवादी पार्टी(सपा) और भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) दलित और मुसलमानों के हितैषी नहीं हैं।

अली ने कहा कि 2017 में होने वाले विधानसभा चुनाव को देखते हुए पार्टी बूथ स्तर पर कार्यकर्ताओं को तैयार कर रही है। उनका दावा है कि चुनाव में एआईएमआईएम एक मजबूत ताकत बनकर उभरेगी।

गौरतलब है कि फैजाबाद जिले के बीकापुर विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव के जरिए सूबे के चुनावी राजनीति में कदम रखने वाली एआईएमआईएम के प्रत्याशी प्रदीप कोरी चौथे स्थान पर थे लेकिन उन्हें मिले 11857 मत से पार्टी उत्साहित है। (राजस्थान पत्रिका)

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?