हज के लिए आवेदन करने वाले लोगों को फॉर्म के साथ मेडिकल सर्टिफिकेट नहीं देना होगा। हालांकि कुर्रा में चयनित होने वाले यात्रियों को मेडिकल सर्टिफिकेट जमा करना होगा। इस संबंध में हज कमेटी ऑफ इंडिया ने गाइडलाइड जारी करते हुए हज जाने के लिए आवेदन करने की प्रक्रिया को आसान कर दिया है।

गाइडलाइन के मुताबिक हज के लिए चयनित होने के बाद यात्रियों को आवदेन फॉर्म के साथ दिए गए मेडिकल सर्टिफिकेट के फॉरमेट को भरने के बाद न्यूनतम एमबीबीएस डिग्री वाले किसी सरकारी चिकित्सक से प्रमाणित कराकर हज कमेटी कार्यालय पर जमा करना होगा।

इसके बाद हज कमेटी हज यात्रा से पहले आवेदकों को एक बुकलेट मुहैया कराएगी, जिसे भरकर हज यात्रियों को अपने पास करना होगा।

हज के दौरान इलाज में मददगार होगी बुकलेट

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

हज कमेटी की ओर से उपलब्ध कराई गई बुकलेट सऊदी अरब में हज यात्रियों के इलाज में काफी मददगार साबित होगी। वहां गंभीर रूप से बीमार पड़ने के स्थिति में बुकलेट में दर्ज मेडिकल हिस्ट्री से उनके इलाज में आसानी होगी।

राज्य हज कमेटियों को आवेदन फॉर्म उपलब्ध करा दिए हैं। 14 जनवरी से आठ फरवरी तक हज के लिए आवेदन स्वीकार्य किए जाएंगे। आवेदन ऑनलाइन भी किए जा सकेंगे। आठ फरवरी के बाद जारी पासपोर्ट हज यात्रा के लिए स्वीकार्य नहीं होंगे। साभार: अमर उजाला

Loading...