Saturday, May 15, 2021

#MeToo में फँसे संस्कारी बाबू जी ने पीड़ित पर किया मानहानि का मुकदमा

- Advertisement -

नई दिल्ली । विदेश से चले मीटू अभियान ने भारत में भी भूचाल ला दिया है। फ़िल्म जगत से शुरू हुआ यह अभियान अब राजनीति को भी अपनी चपेट में लेता जा रहा है। अब बड़ी कम्पनी चला रहे लोगों को भी इस अभियान ने डरा दिया है। बड़े बड़े उधोगपतियो को डर है कि कही मीटू अभियान कोरपोरेट को भी अपनी जद में न ले ले। इसी बीच फ़िल्म जगत से ख़बर आ रही है की बॉलीवुड के संसकारी बाबू जी आलोकनाथ ने निर्माता-लेखक विंता नंदा पर मानहानि का मुकदमा किया है।

विंता नंदा वही महिला है जिसने सबसे पहले आलोकनाथ पर 20 साल पहले यौन शोषण करने का आरोप लगाया था। विंता ने सोमवार को एक फ़ेस्बुक पोस्ट के ज़रिए पूरी कहानी बयां की थी। इसके बाद एक्ट्रेस संध्या मृदुल ने भी आलोक नाथ पर शराब पीकर यौन शोषण करने का आरोप लगाया था। इन आरोपो के बाद आलोकनाथ ने सफ़ाई देते हुए सब झूठ क़रार दिया था।

अब आलोकनाथ ने इस मामले में क़ानूनी कार्यवाही करते हुए विंता नंदा के ख़िलाफ़ मानहानि का मुकदमा दर्ज करा दिया। हालाँकि केवल विंता नंदा ही नही कई और महिलाओं ने आलोकनाथ पर कुछ इसी तरह के आरोप लगाए है। हम साथ-साथ है की एक क्रू मेंबर और एक्ट्रेस संध्या मृदुल ने आलोक नाथ पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था। संध्या मृदुल ने खुलासा किया था कि आलोक नाथ ने शराब के नशे में उनसे बद्तमीजी की थी।

संध्या के अलावा आलोकनाथ के साथ कई सीरियलों और फिल्मों में काम कर चुकीं हिमानी शिवपुरी ने भी एक इंटरव्यू में खुलासा किया कि शराब पीने के बाद आलोक नाथ एकदम बदल जाते थे और उनके इस व्यक्तित्व के बारे में इंडस्ट्री में सभी को मालूम था।

बताते चले की मीटू अभियान में बॉलीवुड के सुभाष घई, आलोक नाथ, नाना पाटेकर, रोनित रॉय और पीयूष मिश्रा का नाम यौन शोषण मामलों में सामने आया है। वहीं, राजनीति में भी आरोपियों को बेनकाब करने की मुहीम तेज हो गई है। विदेश राज्य मंत्री एम.जे अकबर पर सात महिला पत्रकारों ने यौन शोषण का आरोप लगाया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles