सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने मंगलवार को देश भर के कंप्यूटरों और मोबाइल फोनों को मुफ्त एंटी-वायरस सुविधा देने की घोषणा की हैं. सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय की और से बॉटनेट क्लिनिंग एंड मालवेयर एनालिसिस सेंटर शुरू किया गया जो ये सुविधा प्रदान करेगा.

केंद्रीय सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने मंगलवार को ‘बॉटनेट क्लिनिंग एंड मालवेयर एनालिसिस सेंटर’ शुरू करते हुए कहा, ‘मैं इंटरनेट सेवा प्रदाताओं से आग्रह करना चाहूंगा कि वह अपने ग्राहकों को इस सुविधा से जुड़ने के लिए प्रेरित करें. यह एक मुफ्त सेवा है। ग्राहक आएं और इस सेवा का उपयोग करें.

साइबर स्वच्छता केंद्र के नाम से शुरू की गई इस सेवा के तहत देश में साइबर सुरक्षा की निगरानी करने वाली संस्था कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम (सर्ट-इन) वायरस से प्रभावित कंप्यूटर और मोबाइलों का डाटा एकत्र करेगी और उन्हें  इंटरनेट सेवा प्रदाताओं तथा बैंकों के पास भेजेगी.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

यह इंटरनेट सेवा प्रदाता और बैंक उपयोगकर्ता की पहचान करेंगे और उन्हें इस केंद्र का एक लिंक मुहैया कराएंगे, जिसकी मदद से वह इस सेवा का लाभ उठा सकेंगे. इस लिंक के माध्यम से उपयोग कर्ता एंटी-वायरस को अपने वायरस प्रभावित उपकरण को सही करने के लिए डाउनलोड कर सकेगा.

सर्ट-इन के महानिदेशक संजय बहल ने बताया कि अभी इस सेवा का उपयोग 58 इंटरनेट सेवा प्रदाता और 13 बैंक कर रहे हैं. प्रसाद ने सर्ट-इन को जून तक राष्ट्रीय साइबर सहयोग केंद्र स्थापित करने का भी निर्देश दिया है.

Loading...