उत्तरप्रदेश के बहराइच में विश्व प्रसिद्ध दरगाह हजरत सैयद सालार मसूद गाजी की दरगाह की जगह पर विश्व हिंदू परिषद् को सूर्य मंदिर बनाने की योजना को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी समर्थन दिया है. इसके साथ ही वीएचपी ने एक स्मारक बनाने की मांग की हुई है.

वीएचपी का दावा है कि 11वीं शताब्दी में राजा सुहेलदेव ने ही गाज़ी सैयद सालार मसूद से युद्ध किया था. वीएचपी का कहना है कि हजरत सैयद सालार मसूद गाजी की दरगाह से पहले वहां एक मंदिर था जिसे तोड़कर दरगाह का निर्माण किया गया. वीएचपी के इस दावे का योगी आदित्यनाथ समर्थन करते हुए वीएचपी की मांग को पूरा करने की भी बात कही.

योगी ने कहा कि इस देश में कोई भी ऐसा नहीं है जो अश़फ़ाक़उल्ला ख़ान, अब्दुल हमीद और कलाम का सम्मान नहीं करता होगा. योगी ने कहा, ‘हमें तय करना होगा कि गजनी, गौरी, खिलजी, बाबर और औरंगजेब को सम्मान मिलना चाहिए या नहीं. गजनी और उसके भतीजे गाज़ी मसूद ने भारत में कई धार्मिक स्थलों को तोड़ा और देश को बांटने की कोशिश की.’

गाज़ी सैयद सालार मसूद की दरगाह करीब 1000 साल पुरानी दरगाह है. यूपी की सबसे प्रमुख दरगाहों में से एक इस दरगाह में हिंदू और मुस्लिम दोनों श्रद्धालु आते हैं.




कोहराम न्यूज़ को लगातार चलाने में सहयोगी बनें, डोनेशन देने से पहले इस link पर क्लिक करके पढ़ें Click Here

Loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें