उत्तर प्रदेश के रामपुर से सांसद और पूर्व मंत्री आज़म ख़ान को प्रशासन ने आधिकारिक रूप से भू-माफिया घोषित कर दिया है। रामपुर प्रशासन ने आज़म ख़ान और रामपुर के पूर्व सर्किल ऑफिसर आले हसन ख़ान का नाम राज्य सरकार की भू-माफिया पोर्टल पर दर्ज कराया है।

दरअसल, आज़म ख़ान और उनके सहयोगी आले हसन के खिलाफ 26 किसानों ने पांच हजार हेक्टेयर जमीन हड़पकर मोहम्मद अली जौहर विश्वविद्यालय के निर्माण में इस्‍तेमाल करने का आरोप लगाया है। आज़म के खिलाफ बीते एक सप्ताह में 13 मुकदमे दर्ज हो चुके हैं।

वहीं आजम खान ने अपने ऊपर लगे आरोपों पर सफाई देते हुए कहा, ‘जब से मैंने बीजेपी के खिलाफ चुनाव जीता है, मुझे सजा दी जा रही है। सभी आरोप झूठे हैं। वे चाहें तो जांच कर सकते हैं। मेरे चारों तरफ दुश्मन हैं।’

आजम खान ने कहा, ‘मेरा तो कुछ नहीं है। वो सब यूनिवर्सिटी की जमीन है। मेरा एक गली के अंदर मकान है जहां आपकी गाड़ी नहीं जा सकती है। वो जमीन ट्रस्ट की है और कस्टोडियन हूं। मेरी जांच कर लीजिए। जिधर देखता हूं दुश्मन ही दुश्मन हैं।’

उन्होंने कहा कि जिन जमीनों की रजिस्ट्री 12-14 साल पहले हो चुकी है और पेमेंट भी कर दिया गया है, उस जमीन के लिए झगड़ा खड़ा किया जा रहा है। बीजेपी पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि लोग शिक्षा के लिए जमीन देते हैं, लेकिन बीजेपी इसे जमीन छीनने के लिए काम कर रही है।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन