शामली के दलित समुदाय ने यूपी की योगी सरकार को धर्म परिवर्तन की धमकी दी हैं. दरअसल दलित समुदाय के लोग आंबेडकर जयंती पर शोभा यात्रा नहीं निकाले जाने देने पर नाराज हैं. जिसके चलते उन्होंने धर्म परिवर्तन की धमकी दी हैं.

संविधान निर्माता डॉक्टर भीमराव अंबेडकर के 126वी जयंती पर सालों से दलित समुदाय शोभा यात्रा निकालता हुआ आया हैं. लेकिन इस बार पुलिस प्रशासन ने डॉक्टर भीमराव अंबेडकर शोभायात्रा निकालने पर रोक लगा दी. जिससे थानाभवन के दलित समाज के लोगों में गहरा रोष फैल गया और उन्होंने पुलिस प्रशासन के खिलाफ आंदोलन शुरू कर दिया.

इस दौरान दलित समाज के लोग पुलिस प्रशासन के खिलाफ धरने पर बैठ गए हैं. उन्होंने चेतावनी दी कि अगर उन्हें अपने लोकप्रिय भीमराव अंबेडकर की शोभायात्रा निकालने का भी अधिकार नहीं है तो वह अपना धर्म परिवर्तन कर लेंगे. इस दौरान नगर पंचायत थानाभवन के चेयरमैन संजय शर्मा ने भी धरना स्थल पर पहुंचकर दलित समाज के लोगों को समर्थन दिया और उन्होंने कहा कि यात्रा जरूर निकालेंगे चाहे खून बहाना पड़े.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होंने पुलिस प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करते हुए आरोप लगाया है कि थाना भवन थाना अध्यक्ष एमएस गिल एवं कस्बा इंचार्ज जितेंद्र दलित विरोधी मानसिकता के हैं. इन्होंने शोभायात्रा निकालने पर रोक लगा दी है. जिससे आज दलित समाज धरने पर डंटा है.

दलित समाज के प्रमुख भागमल ने बताया कि उन्होंने पुलिस प्रशासन को पत्र लिखकर कस्बा थाना भवन में 14 अप्रैल को डॉक्टर भीमराव अंबेडकर की शोभायात्रा निकालने के लिए एसडीएम सीओ से परमिशन मांगी थी, लेकिन उन्होंने उन्हें शोभा यात्रा निकालने की परमिशन नहीं दी और लेटर जारी कर बिना परमिशन के शोभायात्रा निकालने पर उनके खिलाफ कार्यवाही करने की चेतावनी दी.

Loading...