Wednesday, August 4, 2021

 

 

 

यूपी: लॉकडाउन के बीच मजदूर ने की आत्महत्या, आर्थिक तंगी से था परेशान

- Advertisement -
- Advertisement -

यूपी के फर्रुखाबाद में लॉकडाउन के बीच आर्थिक तंगी से परेशान चल रहे एक युवक के फांसी लगाकर खुदकुशी करने का मामला सामने आया है। हालांकि डीएम का दावा है कि युवक ने मानसिक रूप से परेशान होकर युवक ने ऐसा कदम उठाया है।

न्यूज़18 के मुताबिक थाना नवाबगंज क्षेत्र के गांव हईपुर में चुन्नीलाल बाथम मजदूरी करके अपने परिवार का पालन पोषण करता था. लेकिन पिछले एक माह से लाॅकडाउन की घोषणा होने के बाद से ही 35 वर्षीय चुन्नीलाल का काम बंद था। बताया जा रहा है कि चुन्नीलाल रोजगार न होने के कारण अपने परिवार का भरण-पोषण करने में अक्षम साबित हो रहा था।

इससे आए दिन घर में कलह हो रही थी, जिसके कारण चुन्नीलाल डिप्रेशन में चला गया था। यही वजह थी कि परेशान होकर उसने फांसी लगाकर जान दे दी। परिजनों के अनुसार, चुन्नीलाल के घर पर खाने को कुछ भी नहीं था। वहीं उसके पास खेत व मकान नहीं हैं। लाॅकडाउन से पहले वह बनारस काम करने गया था, लेकिन लाॅकडाउन जारी होने के बाद वापस घर आ गया था।

बता दें कि चुन्नीलाल शुक्रवार को जब अपने घर नहीं पहुंचा तो उनकी 7 वर्षीय बेटी सलोनी और 4 वर्षीय बेटा आयुष उनकी तलाश करने निकले। गांव के बगीचे में पेड़ से पिता का शव लटकता देख उनके होश उड़ गए। उन्होंने तत्काल मां कमला देवी को सूचना दी। घटनास्थल पर ग्रामीणों की भीड़ लग गई। इसके बाद मौके पर पहुंच पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

इस मामले में जिलाधिकारी मानवेंद्र सिंह ने बताया कि एसडीएम से जानकारी कराई गई है। अंत्योदय कार्ड धारक चुन्नीलाल को 35 किलो अनाज निःशुल्क मिला था। इसके अलावा 15 अप्रैल के बाद 10 किलो चावल भी दिया गया था। दो साल पहले उसका एक्सिडेंट हुआ था। इसके बाद से वह मानसिक रूप से परेशान चल रहा था। उसके घर में पर्याप्त खाद्यान्न था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles