lo

lo

मुस्लिम महिलाओं को लेकर जारी किये गए एक फतवे में दारुल-उलूम देवबंद ने आइब्रो बनवाने और हेयर कटिंग को इस्लाम के तहत नाजायज बताया है.

सहारनपुर में रहने वाले एक शख्स ने दारुल उलूम के फतवा विभाग से सवाल किया था कि क्या उसकी पत्नी आइब्रो बनवाने केे साथ अपने बाल कटवा सकती हैं? क्या मैं अपनी पत्नी को ऐसा करने की इजाजत दे सकता हूँ ?

इन सवालों के जवाब पर जारी फतवे में कहा गया कि ‘इस्लाम में आइब्रो बनवाना और बाल कटवाना धर्म के खिलाफ है. कोई महिला ऐसा करती है तो वह इस्लाम के नियमों का उल्लंघन कर रही है.’

फतवे में कहा गया कि महिलाओं के बाल उनकी खूबसूरती के लिए होते हैं, जब तक मजबूरी न हो महिलाओं को बाल नहीं कटवाने चाहिए. बिना मजबूरी बाल कटवाना इस्लाम में हराम है.

इसके अलावा फतवे में पुरूषों के लिए भी दाढ़ी बनाना गलत करार दिया. इस बारे में फतवा विभाग के मौलाना काजमी ने कहा कि दारुल उलूम को ये फतवा काफी पहले ही जारी कर देना चाहिए था.

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें