नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ बंगलूरू में आयोजित की गई रैली ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लमीन (एआईएमआईएम) के मुखिया असदुद्दीन ओवैसी के सामने मंच से जबरन पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने वाली युवती के नक्सलियों से संबंध है। ये दावा कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने किया है।

मैसूर में सीएम बीएस येदियुरप्पा ने कहा, संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के विरोध में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान पाकिस्तान के समर्थन में नारे लगाने वाली युवती का संबंध पूर्व में नक्सलियों से रह चुका है। येदियुरप्पा ने कहा, ‘‘ महत्वपूर्ण यह है कि अमूल्या के पीछे कौन से संगठन हैं और उसे कौन पोषित कर रहे हैं, अगर हमने उन संगठनों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की तो चीजें रूकेंगी नहीं। प्राथमिक तौर पर यह स्पष्ट है कि इस तरह की घटनाओं के माध्यम से कानून -व्यवस्था को बाधित करने का षडयंत्र हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘ जो संगठन उसके पीछे है, उसकी जांच की जाए तो चीजें सामने आएगी। यह स्पष्ट है कि पूर्व में उसका नक्सलियों से संबंध रह चुका है। इसके बाद उसे सजा मिलनी चाहिए और संगठनों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए जो उसके पीछें हैं।’’

बीजेपी नेता ने कहा, ‘अमूल्या पिता ने उसके हाथ और पैर तोड़ने की बात की और जमानत नहीं देने के लिए कहा। साथ ही पिता ने कहा कि मैं उसका बचाव नहीं करूंगा। उन संगठनों के खिलाफ कार्रवाई शुरू की जानी चाहिए जो अमूल्य जैसे लोगों के पीछे हैं। अगर कार्रवाई नहीं हुई तो यह सब खत्म नहीं होगा।’

वहीं विदेश राज्य मंत्री वी मुरलीधरन ने कहा कि नागरिकता कानून विरोधी रैली में पाकिस्तान जिंदाबाद का नारा लगाना चिंताजनक स्थिति है। इस तरह के मंच पाकिस्तान समर्थित नारों को मौका दे रहे हैं। सरकार इस तरह के मामलों पर सख्त कार्रवाई करेगी।

इसके अलावा कर्नाटक के गृह मंत्री बासवाराज बोम्मई ने कहा, ‘सीएए विरोधी रैली में पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने वाली अमूल्या ऐसी जगह से आती है जहां लंबे समय से नक्सली काफी सक्रिय हैं। उसने फेसबुक पर कई पोस्ट शेयर की हैं। हम इस एंगल की भी जांच करेंगे।’

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन