मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में शर्मनाक वाक्या पेश आया हैं. जिसने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के सुशासन की पोल खोल कर रख दी.

दरअसल सुबह से एक बुजुर्ग महिला अपनी मासिक पेंशन पाने के लिए लाइन भरी धुप में खड़ी हुई थी. लगभग दो घंटे खड़ी रहने के बाद महिला की तबियत अचानक खराब हो गई. जिसके चलते महिला चक्कर खाकर गिरी और मौके पर ही महिला की मौत हो गई. दरअसल नोटबंदी के बाद से ही बैंकों में भीड़ की वजह से लाइन बैंकों के बाहर धुप में लग रही है.

इस घटना के बाद सबसे शर्मनाक बात ये रही जिसने शिवराज सरकार की पोल खोल कर रख दी. महिला की लाश को ले जाने के लिए परिजन एम्बुलेंस के लिए भटकते रहे लेकिन जब एम्बुलेंस नहीं मिली तो उन्हें लाश को बाइक पर रखकर ले जाना पड़ा.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

परिजनों के आरोप है कि महिला की मौत के बावजूद बैंक कर्मचारी उसकी मदद के लिए भ आगे नहीं आए. ग्राहकों ने ही पुलिस और परिजनों को इस घटना की सूचना दी.

Loading...