व्‍हाट्सएप पर फ़ेल रही अफवाहों के मद्देनजर किश्‍तवाड़ के जिलाधिकारी अंग्रेज सिंह राणा ने ग्रुप एडमिंस के रजिस्‍ट्रेशन कराने के आदेश दिये है। रजिस्‍ट्रेशन के लिए 10 दिन समयसीमा भी निर्धारित की गई है।

राणा ने अपने आदेश मे कहा कि निर्धारित समयसीमा में रजिस्‍ट्रेशन नहीं कराया गया तो एडमिंस पर इंफॉर्मेशन टेक्‍नोलॉजी (आईटी) एक्‍ट, रणबीर पीनल कोड, साइबर क्राइम कानून, गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम (UAPA) के तहत कार्रवाई होगी।

राणा ने द संडे एक्‍सप्रेस को बताया कि किश्‍तवाड़ एक ‘संवेदनशील इलाका’ है और व्‍हाट्सएप पर अफवाहों तथा आपत्तिजनक कंटेंट फैलने से कई समुदायों के बीच तनाव हो रहा था। ऐसे मे अब अभिव्‍यक्ति की स्‍वतंत्रता के साथ सोशल मीडिया समूहों के एडमिंस को जिम्‍मेदारी उठाने के लिए भी तैयार रहना चाहिए।

आदेश मे कहा गया कि व्‍हाट्सएप एडमिंस को ग्रुप के सभी सदस्‍यों (विदेश में रहने वालों समेत) की जानकारी देनी होगी। इसके अलावा व्‍हाट्सएप ग्रुप में शेयर किए गए किसी भी कंटेंट को लेकर अधिकारियों द्वारा बुलाए जाने पर उन्‍हें उपस्थित होना पड़ेगा।

इतना ही नहीं आदेश में यह भी कहा गया कि किसी भी आपत्तिजनक पोस्‍ट की जानकारी एडमिंस अपने नजदीकी पुलिस थाने में दें। साथ ही एडमिंस ”हर आपत्तिजनक/गैरकानूनी/अपमानजनक/बदनीयती/भड़काऊ/सूचना/वीडियो/ऑडियो के स्‍क्रीनशॉट्स/सबूत रखें।”

एडमिंस को यह लिखकर देना होगा कि ”अगर किसी कानून को तोड़ने के दोषी पाए जाते हैं तो उनका ग्रुप/पेज बंद कर दिया जाएगा और उन्‍हें कानूनी प्रक्रिया का सामना करना होगा।”

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें