wasim11

नई दिल्ली: शिया सेंट्रल बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने कहा कि उन्होंने सपने में भगवान राम को रोते हुए देखा। वे बहुत दुखी थे। उन्‍होंने कहा कि अयोध्‍या में मंदिर न बनने से अब राम भक्‍तों के साथ खुद भगवान राम भी निराश हैं। रिजवी ने अयोध्‍या में राम मंदिर बनाए जाने का समर्थन करते हुए कहा कि इसका फैसला अब हो जाना चाहिए।

रिजवी ने कहा कि भारत के कट्टरपंथी मुसलमान, जो पाकिस्तान के झंडे को इस्लाम का झंडा बताकर उससे मोहब्बत करना, अपना ईमान समझते हैं, वो श्रीराम जन्म भूमि पर बाबरी पंजे जमाए हुए हैं। अयोध्या श्रीराम का जन्म स्थान है, मुसलमानों के तीनों खलीफाओं का कब्रिस्तान नहीं।

उन्होंने कहा, ‘कुछ मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड पाकिस्तान से पैसा लेकर कांग्रेस की मदद से राम मंदिर का मामला कोर्ट में उलझाए हुए हैं। भारत में फसाद कराने वाले ऐसे मुल्ला यहां लाशों को गिनकर पाकिस्तान से अपने काम का इनाम लेते हैं।’

रिजवी के अनुसार, ‘मौलवी के हर काम फिक्स एक रेट है, कैसी टोपी कैसी डाढ़ी सबका अपना पेट है।’ राम मंदिर को लेकर रिजवी ने कहा, ‘अयोध्या में मंदिर निर्माण का फैसला अब जल्दी हो जाना चाहिए राम भक्तों के साथ साथ खुद राम भी इस मामले में उदास हो गए हैं।’

राम मंदिर मामले में जल्द फैसले की पैरवी करते हुए रिज़वी ने कहा कि मंदिर मामले में फैसला करने में अब देरी नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि इस मामले में हो रही देरी से भक्तों के साथ साथ खुद भगवान राम भी निराश और उदास हो गए हैं।

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें