VHP करा रही थी कथित धर्म परिवर्तन, आदिवासियों ने तीर-धनुष, पत्थरों से किया हमला

पश्चिम बंगाल के मालदा जिले में विश्व हिंदू परिषद द्वारा रविवार को आयोजित आदिवासी सामूहिक विवाह में धर्म परिवर्तन कराये जाने से नाराज आदिवासियों ने विवाह कार्यक्रम के दौरान तीर-धनुष, पत्थरों से हमला कर दिया। जिसके बाद विवाह स्थल पर तनाव उत्पन्न हो गया। इस झड़प में कई पुलिसकर्मी और कार्यकर्ता घायल हो गए।

झारखंड दिसोम पार्टी (जेडीपी) सदस्यों ने आरोप लगाया कि विहिप उनके रीति रिवाजों की अनदेखी करके आदिवासी सामूहिक विवाह का आयोजन कर रही है। जेडीपी के एक नेता मोहन हंसदा ने कहा, ‘‘विहिप द्वारा आयोजित सामूहिक विवाह हिंदू रीति-रिवाजों के अनुसार आयोजित किया जा रहा था। हमें लगता है कि इस तरह आदिवासियों का धर्मांतरण किया जा रहा था।’’ हंसदा ने कहा, ‘‘वे हमारी गरीबी का फायदा उठा रहे हैं। दंपतियों को 12,000 रुपये देकर अपने जाल में फंसा रहे हैं।”

पीटीआई न्यूज एजेंसी के मुताबिक, अधिकारी ने कहा कि स्थिति को नियंत्रित करने के लिए पुलिस बल को मौके पर भेजा गया। लेकिन झड़प के हिंसक रूप धारण कर लेने के कारण पुलिसकर्मी को भी चोट लगी।

पुराने मालदा के प्रखंड विकास अधिकारी (बीडीओ) इरफान हबीब ने कहा कि पुलिस ने स्थिति को काबू में किया और लोग सामूहिक विवाह स्थल से वापस लौट गए। बीडीओ ने कहा कि कार्यक्रम के दौरान रविवार को लगभग 40 जोड़ों की शादी संपन्न हुई।

वहीं विहिप के उत्तर बंगाल के संयोजक तरुण पंडित ने कहा कि कार्यक्रम सफलतापूर्वक संपन्न हुआ। जेडीपी ने शुरू में सोचा था कि जोड़ों को परिर्वितत किया जा रहा है लेकिन बाद में वे समझ गए कि सामूहिक विवाह का आयोजन आदिवासी रीति-रिवाजों के अनुसार किया गया था।

विज्ञापन