ऋचा भारती मामले में कोर्ट ने बदला आदेश – कुरान बांटने की शर्त फैसले से हटाई

11:27 am Published by:-Hindi News

झारखंड के रांची के पिथौरिया में पुलिस ने दो समुदायों में सांप्रदायिक तनाव पैदा करने के मामले में गिरफ्तार पिठोरिया निवासी ऋचा पटेल उर्फ ऋचा भारती को जेएम मनीष कुमार की अदालत से सोमवार को पेश किया। जहां उसे जमानत मिल गई। ऋचा को सात-सात हजार रुपये के दो निजी मुचलके भरने का निर्देश कोर्ट की ओर से दिया गया।अदालत ने उसे कुरान की पांच प्रतियां दान करने का भी निर्देश दिया।

हालांकि आरोपी ऋचा भारती ने सजा के बाद विरोध जताते हुए कहा था कि वह कुरान नहीं बांटना चाहती हैं। मामले पर अच्छा-खासा विवाद होने के बाद कोर्ट ने अपने फैसले में संशोधन करते हुए कुरान बाटंने की शर्त को हटा लिया है। और इस शर्त के बिना ही ऋचा की जमानत को बरकरार रखा है।  कोर्ट ने जब ये शर्त हटाई तब ऋचा महिला आयोग के दफ्तर में मौजूद थीं।

वहीं बुधवार सुबह रांची के वकीलों ने फेसबुक टिप्पणी मामले में न्यायिक दंडाधिकारी मनीष कुमार सिंह की कोर्ट का बहिष्कार किया। इससे पहले ऋचा ने मंगलवार सुबह कहा था कि वह किसी भी कीमत पर कुरान नहीं बांटेंगी। अगर ऐसा होता है तो आने वाले समय में बोला जाएगा कि तुम इस्लाम स्वीकार कर लो, नमाज पढ़ लो।

जमानत में जेल से बाहर आयी ऋचा भारती ने बुधवार को राज्‍य महिला आयोग का रूख किया। ऋचा ने राज्‍य महिला आयोग की अध्‍यक्ष श्रीमती कल्‍याणी शरण को मामले से अवगत करायी और मदद की गुहार लगायी। ऋचा के साथ उनके पिता भी महिला आयोग पहुंचे थे।

बता दें कि ऋचा ने तबरेज अंसारी की लिंचिंग की घटना से जुड़े दूसरे सोशल मीडिया यूजर्स के भड़काऊ संदेशों को शेयर किया। साथ ही कुछ सोशल मीडिया पोस्ट में विभूतियों और फिल्मी सितारों के खिलाफ भी टिप्पणी की गई। वहीं, ‘देशभक्ति’ से संबंधित एक पोस्ट में महात्मा गांधी की शिक्षाओं का परित्याग करने की बात कही गई।

Loading...