saty1

भारतीय जनता पार्टी के पूर्व सांसद डॉ. रामविलास दास वेदांती ने हाल ही मे अयोध्या विवाद को लेकर कहा कि जिस तरह अचानक बाबरी मस्जिद गिराई गई थी। उसी तर्ज पर राम मंदिर का निर्माण भी करेंगे।

इस बयान को राम जन्मभूमि के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास ने राजनीति से प्रेरित बताया। उन्होने कहा कि यह बयान केवल मीडिया में सुर्खियां पाने के लिए है। सत्येंद्र दास ने कहा, सुप्रीम कोर्ट का जो आदेश है, उसके अनुसार वहां सीआरपीएफ के जवान खड़े हैं। उनकी अनुमति के बिना पूरे क्षेत्र में पत्ता भी नहीं हिल सकता है।

सत्येंद्र दास ने कहा कि चूंकि राम विलास वेदांती कह चुके हैं कि दीपावली के पहले अगर राम मंदिर का निर्माण नहीं होता तो वह आत्मदाह कर लेंगे, इसलिए इसे टालने के लिए वह ऐसा कर रहे हैं। वह भावुकता में बोल दिए हैं, आत्मदाह तो उन्हें करना नहीं है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

vedan

सत्येंद्र दास ने कहा कि आत्मदाह को रोकने के लिए वह अपनी भाषा बदल दिए हैं। उनकी कोई बात नहीं सुन रहा है। वह राजनीति में जाने के लिए विशेष तौर पर प्रयास कर रहे हैं। यही कारण है कि वह नई-नई बातें उठा रहे हैं।

ध्यान रहे वेदांती ने कहा कि जिस तरह से बाबरी मस्जिद ढहाने की कोई भी अनुमति नहीं ली गई थी, उसी तरह से यहां पर भव्य मंदिर बनवाने के लिए किसी आज्ञा की जरुरत नहीं है। उन्होने कहा, अगर 2019 के पहले मंदिर निर्माण का फैसला नहीं हो पाता तो उनके पास वैकल्पिक योजना है।