जयपुर: 36 कौमों को साथ लेकर चलने का दावा करने वाली प्रदेश की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया की सरकार में मुस्लिम कर्मचारियों की गिनती कराई जा रही है. ये गिनती स्वास्थ्य विभाग में तैनात मुस्लिम कर्मचारियों की जा रही है.

इस सबंध में संयुक्त निदेशक डॉ बी एल सैनी ने विगत 30 नवंबर को सभी जिले के चिकित्सा अधिकारियों को लिखित आदेश जारी किए हैं. आदेश के  सामने आते ही मुस्लिम कर्मचारी आक्रोशित हैं.

उनका कहना है कि इस तरह की गिनती करके सरकार क्या करना चाहती है. उन्हे सरकारी कर्मचारी की श्रेणी से हटाकर मुस्लिम कर्मचारी की श्रेणी में क्यों लाया जा रहा है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

हालांकि राजस्थान सरकार के स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का कहना है कि यह जानकारी कर्मचारियों के बेहतर विकास को लेकर रणनीति बनाने के लिए इकट्ठा की जा रही है. जबकि सूबे के स्वास्थ्य मंत्री कालीचरण सराफ का कहना है कि उन्हें इस बारे में पूरी जानकारी अभी नहीं है. उन्होंने तथ्य मंगवाए हैं.

कांग्रेस नेता सचिन पायलट का कहना है कि बीजेपी की रणनीति लोगों को बांटकर राज करने की रही है. इसी वजह से इस तरह के हथकंडे अपना कर समाज में दरार पैदा करने की कोशिश की जा रही है.

Loading...