अपनी सरकार की तीन साल की उपलब्धि को गिनाने  सीकर पहुंची मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के लिए उस वक्त मुश्किल पैदा हो गई जब उन्होंने राज्य के बेरोजगारों को लफंगे कहकर संबोधित किया. जिसके बाद उनका विरोध शुरू हो गया और भाषण को बीच में छोड़कर जाना पड़ा.

दरअसल, रोजगार की मांग कर रहे बेरोजगारों को मुख्यमंत्री ने यह कहते हुए संबोधित किया कि यह राजस्थान के विकास को रोकने वाले लफंगे हैं. इनसे घबराने की आवश्यकता नहीं है. इस दौरान उन्होंने भाजपा कार्यकर्ताओं को उनसे निपटने के लिए नारे लगाने को कहा.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

मुख्यमंत्री ने कार्यकर्ताओं से कहा कि आप लोग तो जय-जय राजस्थान का नारा लगाओ. उन्होंने कहा कि आपके नारों की आवाज इन प्रदर्शनकारियों के घरों तक पहुंचनी चाहिए, ताकि पता लग सके राजस्थान को आगे बढ़ाने वाले कितने लोग हैं.

इसके बाद प्रदर्शनकारी और भाजपा कार्यकर्ता उलझ गए और तनाव की स्थिति उत्पन्न हो गई. हालात तनावपूर्ण देख आखिर में पुलिस अधिकारियों ने प्रदर्शनकारियों को सभा से बाहर निकाल दिया. हंगामे और अव्यवस्था के कारण मुख्यमंत्री को भाषण छोड़कर जाना पड़ा.

Loading...