राजस्थान की वसुंधरा सरकार मुस्लिम नामों पर रखे गए गावों के नामों को एक के बाद एक बदल रही है। इन गांवों के नामों को हिन्दू नाम दिये जा रहे है। बाड़मेर जिले के ‘मियों का बाड़ा’ गांव का नाम बदलकर पहले ही महेशनगर कर दिया गया है।

अब झुंझनू के इस्माईलपुर गांव का नाम बदलकर पिचानवा खुर्द किया गया है। दरअसल, वसुंधरा सरकार ने केंद्रीय गृह मंत्रालय से 27 गांवों के नाम बदलने की अनुमति मांगी थी। जिनमें से आठ गांवों के नाम बदलने की मंजूरी मिल गई। इन सभी गांवों के नाम मुस्लिम नामों पर है।

गांवों के नाम बदलने को लेकर वसुंधरा सरकार अजीब तर्क दे रही है। मियों का बाड़ा का नाम बदलने को लेकर सरकार का कहना है कि स्थानीय लोगों को गांव के नाम से दिक्कत थी। दरअसल, यहाँ युवाओं के रिश्ते नहीं आ रहे थे।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

269116 mahesh nagar barmer

1 अगस्त को जारी हुए सरकारी आदेश के मुताबिक, “अब यह गांव अपने बदले हुए नाम यानी महेश नगर के नाम से जाना और पहचाना जाएगा।” पाकिस्तानी सीमा के पास स्थित इस गांव में करीब 14,00 लोग रहते हैं।

गांव के सरपंच का कहना है कि इस गांव के लोग भगवान शिव के उपासक होने की वजह से इसका नाम महेश नगर रखा गया है। इसके पहले इसका यही नाम था। लेकिन वक्त के साथ लोगों की बोली में बदलाव और पलायन के चलते इसे मियों का बाड़ा बुलाया जाने लगा।

Loading...