इंदौर: बीजेपी के सांसद वरुण गांधी ने अपनी ही पार्टी के खिलाफ बगावती सुर अपनाते हुए बीजेपी का चिट्ठा खोलना शुरू कर दिया हैं. बीजेपी के सांसद वरुण गांधी कल कांग्रेस नेता के स्कूल में एक कार्यक्रम दौरान भाषण दिया जिसने बीजेपी के लिए मुसीबतें पैदा कर दी हैं.

वरुण गांधी ने कहा कि पिछले दो साल में साढ़े सात हजार किसानों ने आत्महत्या कर ली और माल्या नौ हजार करोड़ रुपये लेकर भाग गया. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि रोहित वेमुला का सुसाइड नोट पढ़कर उन्हें रोना आ गया था. उन्होंने बताया कि उसमे लिखा था, मैं इसलिए जान दे रहा हूं क्योंकि मैंने एक दलित के रूप में जन्म लेकर पाप किया है, मुझे जीना का हक कहां है.

इसी के साथ वरुण गांधी ने अल्पसंख्यकों के विकास पर सवाल उठाते हुए मोदी सरकार पर सवालिया निशान लगाया. उन्होंने कहा, देश की आबादी में 17.18 प्रतिशत अल्पसंख्यक हैं, लेकिन इनमें से केवल चार फीसदी लोग उच्च शिक्षा हासिल कर पाते हैं. हमें इन समस्याओं को हल करना होगा. हम इनके विकास में नाकाम हो रहे हैं.

किसानों के आत्महत्या के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि हमारे समाज में असामनता है और कर्ज वसूली में भेदभाव है जिसकी वजह से किसानों की ये हालत हो रही है. उन्होंने देश के बड़े औद्योगिक घरानों पर बकाया कर्ज माफ करने पर कड़ी आपत्ति जताते हुए कहा कि अमीरों को रियायत दी जाती है और गरीब कर्ज न चुकाने पर अपनी जान दे देते हैं.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें