देहरादून | उत्तराखंड में होने वाले विधानसभा चुनावो के लिए बीजेपी ने उम्मीदवारों की लिस्ट जारी कर दी है. बीजेपी ने अभी तक 64 उम्मीदवार घोषित किये है जिनमे कांग्रेस से आई काफी बागियों को टिकेट दिया गया है. उत्तराखंड में 70 विधानसभा सीटें है, बाकी छह सीटो के लिए बीजेपी , गुरुवार को उम्मीदवार घोषित कर सकती है. लेकिन उम्मीदवार घोषित होते ही बगावती सुर उठने शुरू हो गए है.

खबर है की बीजेपी के आधा दर्जन से अधिक नेता पार्टी छोड़ सकते है. बीजेपी के कई नेता कांग्रेस के बागियों को ज्यादा अहमियत देने से नाराज बताये जा रहे. इन लोगो का कहना है पार्टी आलाकमान ने उन लोगो को टिकेट दे दिया है जिनको पार्टी में आये अभी कुछ दिन ही हुए है. कांग्रेस के सभी बागियों को टिकेट दिया गया है जबकि पार्टी की कई साल से सेवा करने वालो को दरनिकार कर दिया गया है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

रूडकी से बीजेपी के कद्दावर नेता और तीन बार से विधायक सुरेश जैन का टिकेट काटकर , कांग्रेस से आये प्रदीप बत्रा को टिकेट दे दिया गया. यही बात सुरेश जैन को नागवार गुजर रही है. खबर है की सुरेश जैन बीजेपी छोड़ने का मन बना चुके है. खबर है की सुरेश जैन कांग्रेस ज्वाइन कर सकते है. हालाँकि उनका निर्दलय चुनाव लड़ना तो तय है.

सुरेश जैन के अलावा , बीजेपी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष तीरथ सिंह रावत और पूर्व मंत्री मातबर सिंह कंडारी भी पार्टी से नाराज चल रहे है. खबर है की बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट लगातार मातबर कंडारी से संपर्क में है. अजय भट्ट उनसे ,बीजेपी प्रत्याशी के खिलाफ प्रत्याशी न बनने का आग्रह कर रहे है. लेकिन खबर है की मातबर कंडारी और तीरथ सिंह रावत लाख मनाने के बाद भी अपनी जिद्द पर अड़े हुए है.

केदारनाथ विधानसभा सीट पर भाजपा से दो बार विधायक रह चुकी आशा नौटियाल ने भी बगावती सुर बुलंद कर लिए है. उन्होंने एलान किया है की वो केदारनाथ से निर्दलय प्रत्याशी के रूप में खडी होगी. बीजेपी में मचे घमासान के बीच कांग्रेस की नजर सभी बागियों पर बनी हुई है. कांग्रेस लगातार इन नेताओ से संपर्क कर रही है. कांग्रेस ने अपने उम्मीदवारों की लिस्ट जारी नही की है. ऐसे में कांग्रेस कुछ बीजेपी बागियों को टिकेट देकर हिसाब बराबर कर सकती है.

Loading...