gan

उत्तराखंड में निकाय चुनाव से पहले सोशल मीडिया पर भाजपा विधायक गणेश जोशी का एक वीडियो वायरल हो रहा है। जिसमे वे महिलाओं को रुपये देते दिखाई दे रहे हैं। वीडियो वायरल होने के बाद कांग्रेस ने राज्य चुनाव आयोग से शिकायत की है।

कांग्रेस की शिकायत पर राज्य चुनाव आयुक्त चंद्रशेखर भट्ट ने देहरादून के जिलाधिकारी को जांच के आदेश दे दिए हैं। हालांकि देश भाजपा का कहना है कि जोशी हिंदू रीति के अनुरूप छठ पर्व पर शगुन की परंपरा निभा रहे थे। वहीं  जोशी ने कहा कि इसमें कुछ भी गलत नहीं है और वह सिर्फ एक पुराने धार्मिक रिवाज को निभा रहे थे।

जोशी ने कहा, ‘आपने वीडियो में देखा होगा कि मैं वहां मौजूद हर महिला की बजाय सिर्फ उन्हीं महिलाओं को नोट दे रहा हूं जो मेरे माथे पर टीका लगा रही हैं। जब बहनें अपने भाइयों के माथे पर तिलक लगाती हैं तो भाई उन्हें पैसे या उपहार देते हैं। यह रिवाज युगों से चला आ रहा है। इसमें गलत क्या है?’ उन्होंने कहा कि इसका आगामी नगर निकाय चुनावों से कोई संबंध नहीं है जैसा कि कांग्रेस आरोप लगा रही है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

विधायक ने कहा, ‘कांग्रेस को आगामी निकाय चुनावों में अपनी हार साफ नजर आ रही है, इसलिए वह इस मामले में राई का पहाड़ बना रही है।’ यह पूछे जाने पर कि क्या इस मामले में चुनाव आचार संहिता के कथित उल्लंघन को लेकर उन्हें राज्य निर्वाचन आयोग से कोई नोटिस मिला है, उन्होंने कहा कि अभी तक उन्हें ऐसा कोई नोटिस नहीं मिला है।

वहीं कांग्रेस प्रवक्ता गरिमा दसौनी ने कहा, भाजपा विधायक गणेश जोशी ने निकाय चुनाव में मतदाताओं को प्रभावित करने के लिए धनबल का इस्तेमाल किया जो आचार संहिता का खुला उल्लंघन है।

Loading...