उत्तराखंड में बीजेपी की नई सरकार ने मुस्लिम कर्मचारियों को जुमे की नमाज के लिए मिलने वाली छुट्टी को समाप्त करने का फैसला किया हैं. ये छुट्टी कांग्रेस की पिछली हरीश रावत सरकार ने शुरू की थी.

हरीश रावत सरकार के फैसले के तहत मुस्लिम कर्मचारियों को जुमे की नमाज के लिए डेढ़ घंटे का ब्रेक देने का फैसला किया था. हालांकि इस फैसले के विरोध में बीजेपी ने सोमवार को शिव की पूजा और मंगलवार के दिन हनुमान की पूजा करने के लिए 2 घंटे की छुट्टी मांगी थी.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उत्तराखंड के नए मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत सरकार ने एनबीटी के साथ खास बातचीत में साफ कहा कि नमाज के लिए छुट्टी देने का निर्णय विवादित था. इसे लागू करने का सवाल ही नहीं है. सरकार सभी का विकास करेगी लेकिन तुष्टिकरण किसी का नहीं. आरएसएस से सक्रियता से जुड़े रहे त्रिवेंद्र ने कहा कि हरीश रावत सरकार का यह फैसला दुर्भाग्यपूर्ण था, इसे लेकर लोगों की नाराजगी उन्हें भुगतनी पड़ी है.

स्कूलों में रोजाना वंदेमातरम की तैयारी

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि उत्तराखंड के सभी विश्वविद्यालयों और कॉलेजों में 100 फीट ऊंचा तिरंगा लगाने पर विचार किया रहा है. इसके अलावा सुबह राष्ट्रगान और दोपहर को राष्ट्रगीत अनिवार्य किए जाने की संभावना भी तलाशी जा रही है. रावत का कहना था कि मुझे यकीन है कि राज्य में किसी भी समुदाय को भारत माता कहने और वंदेमातरम गाने में कोई परेशानी नहीं होगी. राज्य में कभी बैर का माहौल नहीं रहा है.

Loading...