गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन की कमी से हुई मौतों के मामले में योगी सरकार ने शुक्रवार को दो डॉक्टरों को निलंबित कर दिया. जिनमे डॉ कफील खान भी शमिल है.

राज्यपाल ऑफिस से एनेस्थीसिया विभागाध्यक्ष डॉ सतीश कुमार और एनआरएचएम के नोडल अफसर डॉ कफील के निलंबन का आदेश कॉलेज प्रशासन को भेजा गया है. इस मामले में प्रिंसिपल डॉ राजीव मिश्रा को पहले ही सस्पेंड किया जा चुका है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इसी बीच डॉक्टर कफील ने फेसबुक पर विडियो मेसेज जारी कर सफाई दी. उन्होंने कहा कि ऑक्सीजन खत्म होने को लेकर डीएम साहब को तक जानकारी थी. उन्होंने कहा, मैंने सीएमओ को फोन किया. सबको बताया कि सिलिंर खत्म हो गए हैं, बच्चे मर जाएंगे. लेकिन किसी ने मदद नहीं की. उन्होंने आगे कहा, डीजीएमओ की रिपोर्ट में कहा गया कि कफील 3 सिलिंडर लेकर आया.

ये कहा डॉ कफील खान ने

डीजीएमई कह रहे थे कि हमारे पास 52 सिलिंडर थे. डॉ. कफील ने तीन सिलिंडर लाकर क्या कर लिया? सर, तीन सिलिंडर नहीं लेकर आया. मैं 250 सिलिंडर लेकर आया, उन 24 घंटों में. शाम के छह बजे तक कोई एक बंदा नहीं था. रात से लेकर दिन तक दौड़ते रहे हम लोग. कोई नहीं आया. डीएम साहब को भी पता चल गया था दोपहर में. सीएमओ सर को भी मैंने फोन किया था. एडी हेल्थ को भी फोन किया था. सीएमएस डिस्ट्रिक हॉस्पिटल को भी फोन किया था. सबसे भीख मांगी. सर, 50 सिलिंडर दे दो. बच्चे मर रहे हैं… ऐसी सिचुएशन आ गई है. कोई नहीं आया साथ में. सिर्फ सीमा सुरक्षा बल के लोगों ने ट्रक फौरन दे दिया. कैसे-कैसे करके सिलिंडर मांगे गए. कैसे-कैसे भीख मांगी होगी, सिलिंडर दे दो और आप बात करते हो तीन सिलिंडर की. कितनी बातें, कितने लोग कर रहे हैं और हम लोगों को… पूरे घर को छिपना पड़ रहा है. अम्मी जान हज को गई हैं. वो वहां से परेशान हो रही हैं कि कल क्या होगा? सब सही होगा, अल्लाह है ना. इतना ही कहना है बस मुझे. अंदर से लगता है कि चलो जितना भी किया है अगर 10 बच्चों की भी जान बचाई है… पता नहीं कितने बच्चों की जान बची या नहीं बची पर मेरा एफर्ट था मेरे दिल से था और मैंने पूरी जान लगाई थी. और मुझे अपने दिल को बार-बार जब भी टीवी और यहां-वहां से सुनता हूं अपनी बुराइयां तो बस एक चीज मुझे हिम्मत पहुंचाती है कि मैंने उन बच्चों की जान बचाई. चाहे वह 10 बच्चे की हों. शायद उनके मां-बाप की दुआएं मेरे साथ जिंदगी भर रहें. बाकी तो ऊपरवाला देखता ही है किसने क्या किया है, अल्लाह हाफिज.

Loading...