मध्य प्रदेश के सुसनेर के करीब माना गांव में एक दलित की दलित को बेटी की बारात का स्वागत बैंडबाजे से करना महंगा पड़ गया हैं. जिसकी सजा अब पुरे गाँववालों को भुगतनी पड़ रही हैं .

दरअसल दबंगों ने पहले ही बेटी के बाप को इस बारें में चेतावनी जारी की थी. लेकिन पुलिस की मोजुदगी में न केवल दूल्हें के बैंडबाजे से सत्कार हुआ बल्कि दूल्हें ने घोड़ी पर सवार होकर निकासी भी निकाली. यह बात दबंगों के अखर गई और उन्होंने दलितों से बदला लेंने के गाँव के कुँए में केरोसिन डाल दिया.

केरोसिन के कारण कुंए का पानी पीने लायक नहीं बचा था, जिसके बाद एक पंप का इस्तेमाल करके दूषित पानी को बाहर निकाला गया. कुंए में पानी में तेल मिलाए जाने की जानकारी होने के बाद जिले के डीएम डीवी सिंह और पुलिस अधीक्षक आर एस मीना खुद मौके पर पहुंचे और दलितों द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले पानी को पीकर देखा.

साथ ही  उन्होंने दलितों के दो बोरवेल लगवाने की भी घोषणा की, जिससे कि उन्हें आगे इस समस्या से न जूझना पड़े. डीएम की ओर से आश्वासन दिया गया है कि दलित परिवारों को पूरी सुरक्षा दी जाएगी और पानी की आपूर्ति की व्यवस्था भी प्रशासन करेगा.

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें