hhi

उत्तर प्रदेश के एटा जिले में कथित तौर पर दलित उत्पीड़न का मामला सामने आया है। शादी के दौरान दलित दूल्हें पर ठाकुरों ने हमला कर दिया। साथ ही उसे उसे घोड़ी से उतरने को भी मजबूर किया गया।

जानकारी के अनुसार, दलित दूल्हा घोड़ी पर सवार था तो ठाकुर समुदाय के युवकों ने उसे घोड़ी से उतारा, गंदी-भद्दी गालियां दीं और फिर विवाह पंडाल तक पैदल चलने को मजबूर किया। इस मामले को लेकर इलाके के पुलिस ने शिकायत दर्ज कर ली है।

Loading...

एफआईआर के मुताबिक जिले के असरौली गांव में यह घटना सामने आई है। पुलिस के अनुसार, बीते बुधवार को असरौली गांव में दो शादियां थी। इसमें एक ठाकुर जाति के यहां थी और दूसरा दलित के घर में। ठाकुरों ने गांव में घोड़े पर बारात निकाली। इसके बाद दलितों ने भी दूल्हे को घोड़ी पर बैठाया और मंडप तक ले जाने लगे। हालांकि, जैसे ही शादी समारोह शुरू हुआ, कथित तौर पर ठाकुरों ने दूल्हे के साथ दुर्व्यवहार किया, पत्थर फेंके और उन्हें घोड़ी से उतार मंडप तक पैदल जाने को मजबूर किया।

एसपी (क्राइम) ओपी सिंह ने कहा, “दोनों पक्ष की ओर से कई आरोप लगाए गए हैं। प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है। मामले की जांच की जा रही है।” हालांकि, इस मामले में किसी की गिरफ्तारी की सूचना नहीं है। ठाकुर समुदाय द्वारा दर्ज कराई गई प्राथमिकी में कहा गया है कि दलितों ने उन्हें उकसाया और झूठे केस में फंसाने की धमकी दी। जांच के बाद सारी सच्चाई सामने आ जाएगी।

हथरस जिले के कुमारपुर गांव के रहने वाले दलित दूल्हे हरविंदर सिंह ने कहा, “मुझे अभी भी विश्वास नहीं हो रहा कि मेरी शादी में क्या हुआ? मैं एक इलेक्ट्रीशियन हूं। दिल्ली, नोएडा, लुधियाना सहित कई जगहों पर काम कर चुका हूं। मैंने कई संस्थानों में भी काम किया है, लेकिन मेरे साथ इस तरह से दुर्व्यवहार नहीं किया गया।

बुधवार को जिन लोगों ने हमारे उपर हमला किया, उनकी आंखों में हमारे समुदाय के प्रति हिंसक द्वेष दिख रहा था। मैं घोड़ी पर सवार था। मरे दोस्त, परिजन और बाराती मंडप की ओर बढ़ रहे थे और डांस कर रहे थे। तभी अचानक ठाकुर समुदाय के लोग वहां पहुंचे और जातिसूचन अपशब्दों का इस्तेमाल करते हुए हमारे उपर पत्थरबाजी शुरू कर दी। उन्होंने मुझे घाेड़ी पर से उतरने को मजबूर कर दिया।” दूल्हे के परिजनों ने ठाकुरों द्वारा केस वापस लेने की धमकी देने का भी आरोप लगाया है।

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें