गांधी परिवार के गढ़ माने जाने वाली अमेठी और रायबरेली की सीटों को लेकर समाजवादी पार्टी और कांग्रेस में पेंच अटका हुआ था जिसे अब दोनों ने मिलकर सुलझा लिया हैं. कहा जा रहा हैं कि सपा ने 10 में से आठ सीटें कांग्रेस को दे दी हैं.

दरअसल, कांग्रेस ने इन सभी सीटों पर चुनाव लड़ने की बात कही थी. जिसके बाद दोनों पार्टियों के बीच गतिरोध पैदा हो गया था. हालंकि पिछले रविवार को संयुक्‍त प्रेस कांफ्रेंस में राहुल गांधी ने अखिलेश यादव की उपस्थिति में कहा था कि ये कोई मसला नहीं है. इसको आसानी से सुलझा लिया जाएगा.

हालांकि अभी भी कांग्रेस की आन, बान और शान की प्रतीक अमेठी की विधानसभा सीट पर तस्‍वीर फिर भी स्पष्ट नहीं हैं. दरअसल पिछली बार इस सीट से सपा के उम्‍मीदवार गायत्री प्रसाद प्रजापति ने जीत दर्ज की थी. इस सीट की महत्वता के कारण पार्टी में उनका कद बड़ता ही चला गया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

अखिलेश कैबिनेट में गायत्री प्रसाद एक साल के भीतर ही तीन प्रमोशन पाकर कैबिनेट मंत्री बन गए. हालांकि उन्हें मुलायम सिंह और शिवपाल यादव का करीब माना जाता हैं. वहीँ दूसरी तरफ कांग्रेस इस सीट पर अमेठी के राजा संजय सिंह की पत्‍नी अमिता सिंह को उतारना चाहती है. इस क्षेत्र की सीटों पर चौथे और पांचवें चरण में मतदान होगा.

Loading...