untitled 20 0

यूपी के संभल में एनका’उंटर के दौरान अचानक पुलिस के रि’वॉल्वर जाम होने पर ‘ठांय ठांय’ बोलकर एनकाउंटर करने वाले SI को यूपी पुलिस वीरता पुरस्कार से सम्मानित करेगी।

यूपी पुलिस का मानना है कि दरोगा मनोज ने उस समय जो किया वह बहादुरी का काम था, इसलिए उनका नाम बहादुरी पुरस्कार के लिए डीजीपी को भेजा जाएगा। एसपी यमुना प्रसाद ने कहा, ‘मेरे सहयोगी एसआई मनोज कुमार ने एक हीरो का काम किया। विभाग ने इसे सकारात्मक लिया है। एसआई की पिस्तौल जाम होने के बाद उन्होंने अपने सहयोगियों का मनोबल बढ़ाने के लिए मुंह से ठांय-ठांय बोला।’

Loading...

बता दें कि एनका’उंटर के दौरान जब गोली’बारी की बारी आई तो बंदूक में कुछ तकनीकी खराबी आ गई और वह जाम हो गया। जिसकी वजह से गोली’बारी न हो सकी और पुलिसवालों ने बदमाशों को डराने के लिए मुंह से जोर-जोर से ठांय-ठांय की आवाज निकाली।

एसआई मनोज कुमार ने बताया कि वह 28 साल से पुलिस विभाग में नौकरी कर रहे हैं। उन्होंने उस दिन जो किया उसके लिए उन्हें कोई शर्मिंदगी नहीं है। उन्होंने कहा, ‘मेरी पिस्तौल जाम हो गई थी। मैने भागकर गन्ने के खेत में छिपे बदमाशों पर दबाव बनाने के लिए ऐसा किया। मैं बदमाशों को यह एहसास दिलाना चाहता था कि वह चारों तरफ से घिर गए हैं।’

वहीं एसपी संभल यमुना प्रसाद का कहना है कि कॉम्बिंग में पुलिस द्वारा पकड़ लो, घेर लो की आवाज निकाली गई। एक पुलिसकर्मी के हथियार में अचानक दिक्कत हुई, जिसमें दूसरे पुलिसकर्मी द्वारा ठांय ठांय की आवाज निकाली गई। उन्होंने कहा कि इस मामले में पुलिसकर्मियों को प्रशिक्षित किया जाएगा। लेकिन इस वीडियो को गलत तरीके से पेश किया है।

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें