Monday, August 2, 2021

 

 

 

सीएए विरोध के बीच यूपी पुलिस कर रही PFI कार्यकर्ताओं की धरपकड़, हिंसा का आरोप

- Advertisement -
- Advertisement -

सीएए के विरोध में हिंसा फैलाने के आरोप में उत्तर प्रदेश की योगी सरकार पहले ही पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) के खिलाफ प्रतिबंध के लिए गृह मंत्रालय को सिफ़ारिश भेज चुकी है। अब PFI कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया जा रहा है।

हाल ही में यूपी पुलिस ने मुजफ्फरनगर से पीएफआई के चार सदस्यों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस का कहना है कि इन लोगों के पास से नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ कुछ पर्चे भी मिले हैं। पुलिस ने 20 दिसंबर 2019 को हुए प्रदर्शन के दौरान हिंसा फैलाने के संबंध में इन लोगों को गिरफ्तार किया है।

अपर गृह मुख्य सचिव अवनीश के अवस्थी ने बताया कि पिछले चार दिनों में अब तक पीएफआई के 108 सदस्यों को अबतक गिरफ्तार किया गया है जिसमें से 25 लोगों को पहले हिरासत में लिया गया था। उन्होंने बताया, ‘‘यह अभी एक शुरुआत है, हम इनकी जड़ों तक जाएंगे और इनको कहां से किस जरिये से मदद मिलती थी इसकी जांच करेंगे। हम केंद्रीय जांच एजेंसियों के संपर्क में भी हैं।’’

प्रेस कांफ्रेस में कार्यवाहक पुलिस महानिदेशक हितेश चंद्र अवस्थी ने कहा कि पिछले 4 दिनों में पीएफआई के 108 सदस्यों को हिंसा के दौरान उनकी भूमिका के लिए गिरफ्तार किया गया है, इनमें लखनऊ में 14, बहराइच में 16, सीतापुर में 3, मेरठ में 21, गाजियाबाद में 9, मुजफ्फरनगर में 6, शामली में 7, बिजनौर में 4, वाराणसी में 20, कानपुर में 5, गोंडा, हापुड़ और जौनपुर में एक-एक पीएफआई सदस्य शामिल है।

उनसे जब पूछा गया कि क्या प्रदेश पुलिस पीएफआई को मिलने वाली आर्थिक सहायता को लेकर ईडी के संपर्क में है इस पर उन्होंने कहा, ‘हम सबूत इकट्ठा कर रहे हैं और ईडी समेत तमाम एजेंसियों के संपर्क में हैं। हम इस बारे में बाद में सही समय आने पर जानकारी साझा करेंगे।’’अपर मुख्य सचिव गृह अवस्थी ने दावा किया कि उप्र पहला ऐसा राज्य है जिसने पीएफआई के विरुध्द इतनी तेजी से और सख्ती से कदम उठाये है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles