उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव में बीजेपी की बड़ी जीत के बाद बसपा प्रमुख मायावती की और से ईवीएम मशीनों में धांधली करने का आरोप लगा कर चुनाव परिणाम को निरस्त करने की मांग की गई. मायावती के इस दावें के पुरे विपक्ष ने समर्थन किया हैं. वहीँ दिल्ली में कांग्रेस और आप ने निकाय चुनावों को बैलेट पेपर से कराने की मांग की हैं.

ऐसे में अब ईवीएम मशीन से सबंधित एक  बड़ी चूक सामने आई है. ये चूक चुनाव परिणाम जारी होने के बाद संभल विधानसभा क्षेत्र के बूथ संख्या 235 पर आई हैं. बूथ संख्या 235 पर कुल वोटों की संख्या 926 थी. इसके बावजूद आल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के उम्मीदवार को मिले वोटों की संख्या 1217 दिखा दी गई.

इस बूथ पर 636 वोटर्स ने वोट डाला. कंट्रोल यूनिट के चुनाव परिणाम के अनुसार भाजपा के डा. अरविंद गुप्ता को 349 वोट और एआईएमाईएम उम्मीदवार जियाउर्रहमान बर्क को 127 और सपा के इकबाल महमूद को 154 वोट मिले. वहीँ रालोद के कैसर अब्बास 01 वोट, बीएसपी के रफातुल्ला को 02 वोट तथा जनशक्ति के नेम सिंह जाटव 02 वोट, नोटा को 01 वोट मिला. इस बूथ पर अजय कुमार, फरहाद अहमद, संतोष कुमारी को कोई वोट नहीं मिला.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

अब ऐसे में सवाल उठता हैं कि जियाउर्रहमान बर्क को 1217 वोट कैसे मिल गए. बीजेपी के चीफ इलेक्शन एजेंट के मुताबिक कंप्यूटर टेबुलेशन सीट में  गलती  होने की वजह से 127 के स्थान पर 1217 मत लिख दिए गए. इस बारे में निर्वाचन अधिकारी संभल से शिकायत की गई. फार्म 17 ग का भाग दो एसडीएम के द्वारा चेक किया गया. इसमें गड़बड़ी पकड़ी गई.

इस बारें में जियाउर्रहमान बर्क का कहना है जब फाइनल रिजल्ट आ गया तो उसमें संशोधन का अधिकार किसे है? इस बात को देखा जाए.

Loading...