उत्तरप्रदेश के रायबरेली जिले में बीजेपी नेता रवि दीक्षित के नेतृत्व में नगर के अंदर कई जगह स्वच्छता अभियान चलाया गया। जिसमें डिग्री कॉलेज के पास शहीद चौक में बीजेपी नेताओं ने झाडू लगाई लेकिन इस दौरान वह जूते चप्पल पहने हुए शहीद चौक के अंदर नज़र आए।

हालांकि देश में  बने शहीद चौक किसी मंदिर से कम नहीं हैं। ये उन शहीदों की याद में बनता है, जो देश के लिए अपनी जान की परवाह किए बगैर भारत माता पर कुर्बान हो जाते हैं। देश के इस पवित्र मंदिर में जूते चप्पल पहनकर जाना कहाँ तक उचित है।

अब सवाल उठता ही कि आप मंदिर में जाते हैं तो बाहर जूते चप्पल उतारते हैं, किसी स्टेज पर जाते हैं तो बाहर ही उतारते हैं। यहाँ तक अपने घर में कमरे में प्रवेश करने से पहले जूते चप्पल को बाहर उतार देते हैं। तो शहीद चौक के अंदर जाते समय शहीदों के सम्मान मेंं इतना भी नहीं कर सकते हैं।

पीएम नरेंद्र मोदी का स्वच्छता अभियान  अब फोटो अभियान बनता जा रहा है। फोटो खिंचवाने में इतना मग्न कि किसी का सम्मान भी याद न रहे। शहीदों पर क्या बड़ी बड़ी बातें ही करते हैं। पूरा देश शहीदों पर नाज करता है। और ऐसे पवित्र मंदिर में जूता चप्पल पहनकर जाना पूरी तरह से अशोभनीय है। अगर आप शहीदों का सम्मान नहीं कर सकते तो दिखावा कर फोटो खिंचवाने की क्या जरुरत है?

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?