लव जिहाद के कथित मामलों में उत्तर प्रदेश में नए कानून के तहत गिरफ्तार 86 लोगों को गिरफ्तार किया गया। जिनमे  से 79 मुस्लिम समुदाय के हैं। एक मामले में, एक मुस्लिम परिवार के 26 सदस्यों को गिरफ्तार किया गया। जिनमें पांच महिलाएं शामिल है।

एटा पुलिस ने आरोपी के पूरे परिवार के खिलाफ नए अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया है। इन सभी पर एक 21 वर्षीय हिंदू महिला को इस्लाम में धर्म परिवर्तन के लिए मजबूर करने का आरोप है। हालांकि मामला सामने आने के बाद दर्ज एफआईआर के अनुसार नवंबर 2017 को विवाह संपन्न हुआ, लेकिन अध्यादेश लागू होने से लगभग एक सप्ताह पहले पुलिस ने उन्हें आगे बढ़ाया और उनके प्रावधानों के तहत मामला दर्ज किया।

डीएसपी रामनिवास सिंह के मुताबिक जावेद और उसके परिवार के सदस्यों के खिलाफ आईपीसी के सेक्शन 366 के साथ ही उत्तर प्रदेश विधि विरुद्ध धर्म संपरिवर्तन प्रतिषेध अध्यादेश के तहत केस दर्ज कर लिया है। अब तक 6 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। उन्होंने बताया कि लड़की 17 नवंबर से ही गायब थी।

मऊ में एक परिवार के 16 सदस्यों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई थी, जबकि एक अन्य मामले में सीतापुर में परिवार के 14 सदस्यों पर मामला दर्ज किया गया था। एफआईआर में से दो गैर-मुस्लिमों के खिलाफ थीं, जिसके तहत सात लोगों पर मामला दर्ज किया गया था। उन पर महिलाओं को ईसाई धर्म में परिवर्तित करने का आरोप लगाया गया।

उत्तर प्रदेश पुलिस ने कहा है कि उन्होंने अब तक 16 प्रथम सूचना रिपोर्ट (एफआईआर) दर्ज की हैं, जिसके तहत 86 लोगों पर मामला दर्ज किया गया है। पुलिस द्वारा बुक किए गए लोगों में महिलाएं और दो नाबालिग लड़की भी हैं।