मध्य प्रदेश के मंडला जिले के नैनपुर कस्बे में मुख्यमंत्री शहरी पेयजल योजना का भूमिपूजन करने पहुंचे केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते को उस वक्त सरेआम शर्मिंदगी उठानी पड़ गई, जब आयोजित कार्यक्रम मेंउन्ही की पार्टी के नगर पालिका अध्यक्ष राजकुमारी गुप्ता सहित अन्य पार्षद नहीं आए.

कुलस्ते ने इसके लिए सार्वजनिक मंच से अपने दोनों कान पकड़कर जनता से माफी मांगी. कुलस्ते को राजकुमारी गुप्ता को नगर पालिका अध्यक्ष बनाने के लिए भी अफसोस जताना पड़ा. वहीँ नगर पालिका अध्यक्ष राजकुमारी गुप्ता ने कान पकड़कर माफी मांगने के मामले में कुलस्ते को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि वो प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान से प्रभावित होकर भाजपा में शामिल हुई थी न कि कुलस्ते के कारण.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इस बारें में कुलस्ते ने कहा कि सार्वजनिक कार्यक्रमों में जनप्रतिनिधियों को शामिल होना चाहिए. साथ ही कुलस्ते ने राजकुमारी गुप्ता का नाम लिए बिना कहा कि हमने ही उन्हें अध्यक्ष बनाया हैं और ऐसे सार्वजनिक कार्यों में उन्हें मौजूद रहना चाहिए था.

दरअसल, नगर पालिका अध्यक्ष मुख्यमंत्री शहरी पेयजल योजना का भूमिपूजन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की मौजूदगी में कराना चाहती थी, जिसके लिए उन्हें राज्य सरकार से अनुमति भी मिल गयी थी. लेकिन केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री ने इसके पूर्व में भूमिपूजन कर दिया.

Loading...