राजस्थान में वसुंधरा सरकार के शासन में दलितों और अल्पसंख्यकों के खिलाफ अपराध चरम पर पहुँच गया हैं. हाल ही में अलवर में मुस्लिम युवक पहलू खान की पीट-पीट कर हत्या कर दी गई अब सीकर में घर में घुसकर दो दलित बहनों के साथ सामूहिक बलात्कार किया गया. जिसके बाद उन्होंने आत्महत्या कर ली.

भगेगा गांव के दलित बलाई परिवार की दोनों सगी बहनें फर्स्ट इयर की छात्राएं थी.  गांव के ही तीन सवर्ण युवकों ने घर में घुसकर दोनों बहनों से बलात्कार किया. पीड़ित बहनों के भाई के आने पर सभी आरोपी फ़रार हो गए. जिसके बाद दोनों बहनों ने ट्रेन के सामने आकर जान दे दी.

5 अप्रैल को घटित हुई इस शर्मनाक घटना में 8 घंटे की आनाकानी करने के बाद पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया हैं. अपराधियों को बचाने के लिए पुलिस ने मामला बलात्कार, दलित अत्याचार, नाबालिग के लैंगिक शोषण का होने के बावजूद भी जानबूझकर सिर्फ आत्महत्या के लिए दुष्प्रेरण की धारा 306 के तहत मामला दर्ज किया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

36 कौमों को साथ लेने वाली इस मुख्यमंत्री की सरकार में धर्म और जाति के आधार पर निशाना बनाया जा रहा हैं. लेकिन कुछ कारवाई करने के बजाय वसुंधरा सरकार सिर्फ तमाशबीन बनी हुई हैं.

Loading...