बांग्लादेश की तड़ी पार लेखिका तसलीमा नसरीन को राजस्थान की राजधानी जयपुर में आयोजित  जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल (जेएलएफ) में आयोजकों ने मुस्लिमों को अपमानित करने के लिए गुपचुप तरीके से बुलाया. जब मुस्लिम समुदाय को इस बारें में पता चला और उन्होंने विरोध करना शुरू किया तो उन्होंने अगली बार नहीं बुलाने का आश्ववासन दिया.

जेएलएफ के अंतिम दिन तसलीमा नसरीन को बेहद ही गोपनीय तरीके से आयोजकों ने बुलाया. आयोजकों ने तसलीमा नसरीन के शामिल होने के बारें में किसी कोई जानकारी नहीं दी. शिड्यूल में 23 जनवरी को डिग्गी पैलेस (चारबाग) में 3:45 बजे स 4:45 बज तक एक सेशन EXILE रखा गया. ताकि इस बारें में किसी को पता न चल सके.

तसलीमा के इस सेशन के दौरान ही जयपुर के मुस्लिम समुदाय को भनक लग गई और वे डिग्गी पैलेस पर प्रदर्शन को पहुंचने लगे. सेशन खत्म होते-होते बाहर मुस्लिम समुदाय के लोगों का हुजूम जमा हो गया. पुलिस ने आगे नहीं बढ़ने दिया तो मुस्लिम समुदाय के सैकड़ों लोगों ने डिग्गी पैलेस रोड पर ही विरोध-प्रदर्शन शुरू कर दिया.

बड़ते विरोध के बाद जेएलएफ प्रॉड्यूसर संजॉय रॉय ने तसलीमा नसरीन को बुलाने पर माफी मांगी है और फिर से कभी नहीं बुलाने का आश्वासन दिया है. ऐसे में सवाल उठता हैं कि आयोजकों के इस कारनामे से कोई अप्रिय घटना घटित होती तो इसका जिम्मेदार कोन होता?


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें