देश में इस बार गेंहू की बंपर पैदावार हुई है। लेकिन ये किसी गरीब के पेट जाने के बजाय सड़ रही है। ताजा मामला मध्य प्रदेश का है। जहां बारिश की वजह से ढाई सौ क्विंटल गेहूं सड़ गया। इतना ही नहीं इस सड़ गए गेहूं को ठिकाने लगाने के लिए जेसीबी का इस्‍तेमाल करना पड़ा।

सिवनी के गणेशगंज सोसाइटी में ढाई क्विंटल गेहूं बारिश के पानी में भीगकर सड़ गया. बदबू की वजह से आसपास के लोगों को काफी मुश्किल हो रही थी। ऐसे में इस गेहूं को हटाने के लिए जेसीबी का इस्तेमाल किया गया, बाद में ट्रैक्टर में लादकर इस गेहूं को हटाया गया।

इससे पहले छिंदवाड़ा के खमरा सेवा सहकारी समिति की भी तस्वीरे सामने आई थी। जहां बारिश के चलते कई क्विंटल खुले में रखा होने के कारण सड़ गया था। हालांकि मीडिया के कैमरों के पहुँचने की खबरों के साथ ही आनन-फानन में समिति प्रबंधक ने गेहूं को एक जगह से दूसरे शेड में शिफ्ट कराया और बोरे भी बदले।

समिति प्रबंधक की ये मेहनत भी बेकार गई। अब इन बोरो से गेहूं की सड़ने की बदबू आ रही है। हालांकि इस मामले में जब मीडिया ने कलेक्टर से बात करनी चाही तो कलेक्टर ने पल्ला झाड़ते हुए जिले में गेहूं खराब होने की बात से ही इंकार कर दिया।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन