लखनऊ: बुंदेलखंड में आवारों गायों के चलते चित्रकूटधाम मंडल के बांदा, महोबा और हमीरपुर जनपदों के सीमावर्ती गांवों के किसानों के बीच शुक्रवार की रात जमकर खुनी संघर्ष हुआ. जिसमे एक दर्जन से ज्यादा किसान घायल हो गए. पुलिस ने तनाव को देखते हुए दोनों गांवों में पीएसी तैनात कर दी गयी है. आठ किसानों को गिरफ्तार किया गया है.

दरअसल, क्षेत्र में पानी संकट के चलते 40 फीसदी किसानों ने रबी की बुवाई नहीं की. 60 फीसदी किसानों ने गेहूं, चना, सरसों आदि फसलें बोई तो उन्हें अन्ना मवेशियों का डर सता रहा है. कड़ाके की ठंड में रात-दिन किसान खेतों में डेरा डाले फसलें ताक रहे हैं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

शुक्रवार की रात महोबा जनपद के रेवई और हमीरपुर जिले के सिरसी गांव के लगभग आधा सैकड़ा किसान लगभग दो सैकड़ा गायों को हांक कर बांदा जनपद के मटौंध में ले आए. खेतों में फसल ताक रहे किसानों ने झुंड देखा तो एकजुट होकर मोर्चा खोल दिया.

पुलिस उपाधीक्षक (सीओ) रजनीश उपाध्याय ने शनिवार को बताया, “थाने के छिबौली और मगरौल गांव के किसानों में आवारा मवेशियों के हांकने को लेकर शुक्रवार को तीखी झड़प हो गई. दोनों ओर से लाठी-डंडे चले और कुछ अराजक तत्वों ने हवाई फायरिंग भी की. इस घटना में 12 किसान जख्मी हुए हैं, जिन्हें इलाज के लिए सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया है.”

उन्होंने बताया, “दोनों गांवों के 34 किसानों के खिलाफ एक-दूसरे पर हमला करने का मुकदमा दर्ज कर आठ किसानों को गिरफ्तार किया गया है. साथ ही तनाव को देखते हुए गांवों में पीएसी और पुलिस बल तैनात कर दिया गया है.”

Loading...