untitled

उत्तरप्रदेश के कासगंज में 26 जनवरी को निकाली गई तिरंगा यात्रा के बाद मचा बवाल अब जाकर शांत हुआ है. बावजूद प्रदेश के अन्य हिस्सों में भी दक्षिणपंथी तिरंगा यात्रा के नाम पर हिंसा को भड़काना चाहते है.

मऊ जिले में धारा 144 लागू होने के बावजूद कासगंज की तरह तिरंगा यात्रा निकालने की कोशिश की गई. हालांकि पुलिस ने लाठी भांज कर लोगों को वहां से खदेड़ दिया. लेकिन इस कार्रवाई से स्थानीय बीजेपी नेता भड़क गए है और विवाद शुरू कर दिया है.

प्राप्त जानकारी के अनुसार, यूथ इन एक्शन के सदस्यों ने शुक्रवार शाम 4 बजे से शहर कोतवाली क्षेत्र के आजमगढ़ तक ये यात्रा निकाली. जब ये यात्रा आजमगढ़ मोड़ पर पहुंची तो वहां भीड़ इकट्ठा होने लगी, जिसे देखकर पुलिस मौके पर पहुंची और धारा 144 के तहत तिरंगा यात्रा को आगे जाने से रोक दिया.

इस मामले में बीजेपी जिलामंत्री आनंद सिंह ने कहा, ”पुलिस ने यात्रा रोकने की बात को मनवाने के लिए बल का प्रयोग किया। लाठीचार्ज और गालियां देकर तिरंगा प्रेमियों का अपमान किया है.”

वहीँ शहर कोतवाली इंस्पेक्टर परमानंद मिश्रा ने कहा, ”जिले में धारा 144 लागू है. ऐसे में बिना परमिशन के यात्रा निकाला जा रहा था. इनको रोकने का प्रयास किया गया, इनके ऊपर किसी प्रकार का बल का प्रयोग नहीं किया गया है.”

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें