ani pune

देश में मोदी सरकार द्वारा लाए गए तीन तलाक बिल के खिलाफ प्रदर्शन हो रहे है.  महाराष्ट्र के पुणे में भी हजारों बुरखानशीन महिलाओं ने शनिवार को मौन जुलुस निकाल कर बिल का विरोध किया.  इन महिलाओं ने मुस्लिम पर्सनल लॉ में कोई बदलाव नहीं किए जाने की मांग की है.

बाटा चौक से शुरू हुई ये रैली एम जी रोड होते हुए आज़म परिसर पहुंची. इस दौरान मुस्लिम महिलाओं ने ट्रिपल तालाक विधेयक को “अन्याय” बताया. प्रदर्शनकारी महिलाओं का कहना है कि मुस्लिम पर्सनल लॉ में कोई बदलाव नहीं होना चाहिए.

उन्होंने कहा, ‘हमारे लिए अल्लाह ने जो कानून बनाया है वह हमारे लिए बहुत सही है.’ उनका दावा है कि एक समय पर तीन तलाक है ही नहीं, यह लोगों ने गलतफहमी फैलाई है. बता दें कि इस रैली में आल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी भी शामिल हुए.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

प्रदर्शन में शामिल नजमा सईद शेख ने कहा, ‘हम तीन तलाक बिल का विरोध करते हैं. इस बिल में कई खामियां हैं. पहली बात तो यह है कि मुस्लिम संगठनों, मुस्लिम महिला संगठनों या पर्सनल लॉ बोर्ड से सलाह नहीं ली गई. जल्दबाजी में बिल को लोकसभा में पास करा दिया गया.’

उन्होंने आगे कहा कि अगर किसी आदमी को जेल होती है तो उसकी पत्नी और बच्चों का क्या होगा. अगर वह संयुक्त परिवार में होंगे तो क्या घरवाले उन्हें साथ रहने देंगे? इसके अतिरिक्त उन्होंने सवाल किया कि पति के जेल जाने की स्थिति में महिला को भत्ता कैसे दिया जाएगा.

Loading...