उत्तर प्रदेश सरकार हज आवेदन प्रक्रिया को आधार नंबर से जोड़ने पर विचार कर रही हैं. ताकि पता लगाया जा सके कि दुबारा हज तो नहीं किया जा रहा.

प्रदेश के अल्पसंख्यक कल्याण राज्यमंत्री मोहसिन रजा ने भाषा से कहा कि हम हज के लिये आवेदन प्रक्रिया को आधार नंबर से जोड़ने पर विचार कर रहे हैं ताकि यह पता लगाया जा सके कि आवेदक इससे पहले हज कर चुका है या नहीं. इससे चयन प्रक्रिया में ज्यादा पारदर्शिता आयेगी.

उन्होंने कहा कि ठोस प्रणाली तैयार होते ही इस प्रक्रिया को लागू कर दिया जाएगा. हम अपने सरकारी तंत्र में पारदर्शिता तथा ईमानदारी लाना चाहते हैं. इससे सरकार सबका साथ, सबका विकास के अपने मूलमंत्र पर अमल कर सकेगी.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

मालूम हो कि रजा ने कल उत्तर प्रदेश के धनी मुसलमानों से हज सब्सिडी छोड़ने की अपील की थी, ताकि गरीब मुस्लिम हज पर जा सकें.

Loading...