बीजेपी शासित राज्य झारखंड में राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ (आरएसएस) ने “ईसाई मुक्त” अभियान शुरू किया हैं. जिसके तहत लोगों को धर्मांन्तरित करवाया जा रहा है.

अरकी में ईसाई समुदाय के लोगों का धर्मपरिवर्तन कराया जा रहा हैं और इस कथित घर वापसी का नाम देकर जायज करार दिया जा रहा हैं. कथित तौर पर संघ का यह घर वापसी अभियान पूरे अप्रैल भर चलेगा. आरएसएस के संयोजक लक्ष्मण सिंह मुंडा ने एचटी से बातचीत में कहा कि यह धर्मांतरण नहीं हैं.

उन्होंने कहा, हम केवल अपने भाई-बहनों को उनके धर्म में वापस ला रहे हैं. हम ईसाई मुक्त ब्लॉक चाहते हैं. गांववाले अपने उसी मूल में लौट रहे हैं, जहां से उनकी उत्तपति हुई है. रिपोर्ट में दावा किया गया कि कोछासिंधारी गांव में 7 परिवारों के लोगों का शुद्दिकरण कराया गया. स्थानीय हिंदू पुजारी द्वारा पूरी की गई इस शुद्धिकरण की प्रक्रिया में सभी के माथे पर चंदन का लेप लगाया गया. पैर धोए गए और तिलक भी लगाया गया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

गौरतलब रहें कि राज्य में आदिवासी ईसाई धर्म अपना रहे हैं. जिस पर राज्य की बीजेपी सरकार ने कड़ा रुख अपनाया हुआ हैं. पिछले साल एक ग्राम सभा को संबोधित करते हुए राज्य के सीएम रघुवर दास ने आदिवासियों का धर्म परिवर्तन कराने वाले पादरियों को जेल भेजने की बात कही थी.

Loading...