यूपी की राजधानी लखनऊ के ठाकुरगंज के पास काकोरी इलाके में यूपी एटीएस के हाथों मारे गए संदिग्ध सैफुल्लाह की मौत के बाद उसके पिता उसके कृत्य को लेकर उसका शव लेने से इनकार कर चुके हैं.

वहीँ दूसरी तरफ हाजी कालोनी में रहने वाले लोगों को सैफुल्लाह के आतंकी होने पर विश्वास नहीं हैं. वे ये मानने को तैयार नहीं हैं कि सैफुल्लाह के आतंकियों से सबंध हो सकते हैं. कालोनी के लोगों ने इस कथित एनकाउंटर को भी फर्जी करार दिया.

खुलकर न बोल रहे कॉलोनीवासीयों ने एनकाउंटर पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि “पुलिस ने बिलावजह बच्चे को मार डाला.” उनका कहना है कि सैफुल्लाह से बरामद  सामान पुलिस को स्थानीय लोगों को दिखाना चाहिए था, उनका कहना हैं कि हो सकता हो सारा सामान पुलिस ने ही रख रखकर मीडिया को दिखा दिया हो.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

कॉलोनीवासीयों का कहना हैं कि इस तरह सामान रखकर किसी को भी फंसाया जा सकता हैं. हालांकि इस मामलें की जांच अब एनआईए की टीम कर रही है.

Loading...