भोपाल में पाकिस्तानी ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई के लिए जासूसी के नेटवर्क के खुलासें के बाद इसी तरह के नेटवर्क का खुलासा राजस्थान में भी हुआ हैं. देश की सैन्य गतिविधियों , महत्वपूर्ण सामरिक ठिकानों की गुप्त सूचना भेजने के आरोप में शुक्रवार सुबह बाड़मेर से तीन पाकिस्तानी जासूसों को गिरफ्तार किया गया है.

बाड़मेर से पकड़े गए पाक जासूस साताराम माहेश्वरी एवं जोधपुर में पकड़े गए पाकिस्तानी नागरिक विनोद कुमार बाड़मेर, जैसलमेर, जोधपुर,पोकरण सैन्यभ्यास, आर्मी मूवमेन्ट तथा वायुसेना की गतिविधियों के बारे में पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई को लगातार जानकारी भेज रहे थे. इनके पास से कई प्रकार के सैन्य दस्तावेज, फोटोग्राफ्स एवं गोपनीय दस्तावेज मिले हैं. इसके अलावा उन दोनों के साथ शुक्रवार को पकड़े गए संदिग्ध जासूस सुनील कुमार से अभी भी पूछताछ चल रही हैं.

अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (गुप्तचर) यू.आर.साहू ने इस बारें में पुष्टि करते हुए कहा कि बाड़मेर में पकड़े गए साताराम माहेश्वरी 1973 में पहले पाकिस्तान से परिवार के साथ भारत आ गया था तथा 2009 में उसे भारतीय नागरिकता भी मिल गई थी, वह इन दिनों बाड़मेर के चौहटन क्षेत्र में निवास कर रहा था लेकिन पिछले कई दिनों से इसकी गतिविधियां काफी संदिग्ध बनी हुई थी और वह खुफिया एजेंसियों के रेडार पर था.

उन्होंने बताया कि इसके बारे में लगातार जानकारी मिल रही थी कि वह आई.एस.आई का एजेन्ट हैं और देश की गोपनीय सूचनाएं एवं फोटोग्राफ्स आई.एस.आई को मुहैया कराता हैं,जिसके लिए आई.एस.आई उसे राशि भी देती हैं. साहू ने बताया कि साताराम ने सीमावर्ती बाड़मेर क्षेत्र के कई सीमाई इलाकों में सैन्य गतिविधियों, सीमा चौकियों की कई महत्वपूर्ण सामरिक सूचनाएं तथा फोटोग्राफ पाकिस्तान भेजी हैं। यह लगातार फोन पर पाकिस्तान में आई.एस.आई को देश की सूचनाएं मुहैया कराता था.

उन्होंने बताया कि इसका भतीजा विनोद कुमार 2015 में पाकिस्तान से भारत आया था तथा लोंग टर्म वीजा पर इन दिनों जोधपुर में निवास कर रहा हैं. इसे अभी भारतीय नागरिकता नहीं मिल पाई हैं. पूछताछ में जानकारी मिली हैं कि साताराम ने अपने भतीजे को आई.एस.आई के अधिकारियों से मिलवाया और इसे भी राष्ट्र विरोधी गतिविधियों की सामरिक सूचनाएं सीमा पार भिजवाने में तैयार कर लिया.

उन्होंने बताया कि विनोद भी पाकिस्तान जाता रहता था तथा पाकिस्तान जा रहे अन्य लोगों के साथ संवदेनशील स्थानों के फोटो एवं अन्य सूचनाएं अपने रिश्तेदारो एवं अन्य लोगों के साथ भिजवाता रहता था, इसके अलावा जोधपुर के कई संवदेनशील स्थानों तथा अन्य सैन्य गतिविधियों के बारे में फोन पर आई.एस.आई को जानकारी देता रहता था.

साहू ने बताया कि दोनों के खिलाफ राष्ट्र विरोधी गतिविधियों में लिप्त होने के पुख्ता प्रमाण मिलने के बाद शुक्रवार को पूछताछ के लिए इन्हें हिरासत में लिया गया. पूछताछ में देशद्रोही गतिविधियों में लिप्त होने एवं देश की गोपनीय सूचनाएं सीमा पार भिजवाने की जानकारी सामने आने के बाद शनिवार को इन्हें ऑफीसीयल सीक्रेट एक्ट के तहत इन्हें गिरफ्तार कर जयपुर ले जाया गया हैं जहां इनसे गहन पूछताछ की जायेगी.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?