दादरी विधानसभा से भाजपा प्रत्‍याशी तेजपाल नागर का चुनाव प्रचार करने पहुंचे केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह की बिसाहडा में जमकर फजीहत हुई. इस दौरान ग्रामीणों ने उनका जमकर विरोध किया.

अख़लाक़ की हत्या के बाद से ही ग्रामीणों में बीजेपी के खिलाफ गुस्सा हैं जो राजनाथ सिंह की चुनावी सभा के दौरान सामने आया. जब राजनाथ सिंह भाषण देकर जाने लगे तब गांववासियों ने विरोध करते हुए उनकी कार रोक ली. बड़ी ही मुश्किल से पुलिस राजनाथ सिंह को भीड से निकालकर ले गई.

गांव वालों का कहना है कि जब हमारे बच्‍चे जेल गये तब राजनाथ सिह गांव वालों के आंसू पोंछने नही आए और आज चुनाव के लिए वोट मांगने आ गये. गाँव वालों ने बताया कि जब राजनाथ सिंह गाँव में रैली करने आये तो हमने सोचा की वह अपने भाषण में गाँव वालों को राहत देने के लिए कुछ ऐलान करेंगे और हमारे जख्मों पर मरहम लगाएंगे.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

लेकिन उन्होंने ऐसा कुछ नहीं किया तो गाँव के लोगों के अंदर गुस्सा भर गया और उन्होंने राजनाथ सिंह का विरोध शुरू कर दिया.

गौरतलब रहें कि 2015 में बिसाहड़ा गाँव में गौ-मांस रखने के शक पर लोगों ने अखलाक नाम के एक व्यक्ति की पीट-पीट कर हत्या कर दी थी. जिसके बाद दादरी अंतराष्ट्रीय स्तर पर सुर्ख़ियों में आया था.

Loading...