गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या को काला दिवस के रूप में मनाने वाली अखिल भारत हिंदू महासभा ने गाज़ियाबाद में हिंडन नदी के पास बने हज हाउस में घुसकर जबरदस्ती तिरंगा फहराया. जबकि वहां पर पहले से ही तिरंगा फहराया जा चूका था.

हिंदू महासभा करीब 50 साल से प्रत्येक 25 जनवरी को मेरठ में शारदा रोड स्थित महासभा कार्यालय पर काला दिवस मनाती आ रही है. इसी के साथ देश भर में राष्ट्रीय दिवसों का बहिष्कार कर हिंदू महासभा राष्ट्रीय चिन्हों का अपमान करती रहती हैं.

लेकिन हज हॉउस को देखकर जो हिंदू महासभा आज तक तिरंगे को राष्ट्रीय ध्वज नहीं मानती आ रही थी ने हज हाउस की छत पर पहुंचकर इन लोगों ने तिरंगा फहराया और फिर वहां खड़े होकर राष्ट्रगान भी गाया. क्योंकि यहाँ मामला मुसलमानों से जुड़ा था. जिसका मकसद मुस्लिमों को देशद्रोही घोषित कर खुद को देशभक्त साबित करना था.

याद रहें कि शाम छह बजे यहां महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पं. अशोक शर्मा के नेतृत्व में गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या को काला दिवस के रूप में मनाते हुए काला झंडा फहराया गया था. इसके साथ ही कार्यकर्ताओं ने हिंदू महासभा और नाथूराम गोडसे जिंदाबाद के नारे लगाते हुए सीओ और इंस्पेक्टर ब्रह्मपुरी को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंप कर देश को हिन्दू राष्ट्र घोषित करने की मांग की थी.

लांकि इस मामले में अभी तक पुलिस से कोई शिकायत नहीं की गई है, लेकिन जबरन घुसकर हज हाउस में तिरंगा फहराने से क्षेत्र में हलचल मची हुई है.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें