जुलाई के महीने में हिजबुल कमांडर बुरहान वानी की सुरक्षा बलों के हाथों मौत के बाद से ही पूरा कश्मीर हिंसा की आग में दहक रहा हैं, इस हिंसा की आग को बुझाने में नाकाम मोदी सरकार अब घाटी के मदरसों, मस्जिदों और मीडिया पर नियंत्रण चाहती हैं.

मौजूदा हालात पर केंद्र सरकार की और से तैयार कराई गई रिपोर्ट के अनुसार, घाटी में शांति के लिए मस्जिद, मदरसा और मीडिया पर नियंत्रण करने के साथ राजनीतिक स्थिति में बदलाव लाने, खुफिया ढांचे को मजबूत करने और हुर्रियत के नरमपंथी धडे़ से नजदीकी बढ़ाने का सुझाव दिया गया हैं.

गृह मंत्रालय की इस रिपोर्ट में टी में तीन दशक से जारी हिंसक प्रदर्शनों और आतंकी घटनाओं के बारे में चर्चा की गई है लेकिन इसमें पाकिस्तान का जिक्र नहीं किया गया है. ये रिपोर्ट राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोवाल को भेजी गई हैं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

रिपोर्ट में इस क्षेत्र के आर्थिक विकास और रोजगार उपलब्ध कराने पर भी जोर दिया गया हैं. इसके अलावा आतंकवादियों से मुकाबले के लिए एक बार फिर स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप को स्रक्रिय करने की जरुरत की बात कही गई हैं.

Loading...