मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के किसानों की भलाई के लाख दावों के बीच न तो किसानों की आत्महत्या का सिलसिला रुक रहा है और नहीं किसानों को साहूकारों के मोटे ब्याज से मुक्ति.

प्रदेश के सागर जिले में ब्याज नहीं देने से असमर्थ एक किसान को साहूकार ने जिंदा जलाकर मार डाला. किसान की लाश उसी के घर में जली हुई मिली. साहूकार पहले कर्ज के बदले में किसान की 2.5 एकड़ जमीन को अपने कब्जे में ले चुके थे.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

मामला खुरई के निर्तला गांव का है. सोमवार की रात को कल्लू पिता गोविंद लोधी, गुड़ी, भूरा लोधी ने जालम सिंह पिता निर्भय सिंह कुर्मी को ब्याज की रकम नहीं देने पर खटिया सहित पेट्रोल डालकर आग लगा दी. पुलिस ने तीन आरोपियों पर हत्या के प्रयास का मामला दर्ज कर उनमे से एक आरोपी कल्लू लोधी को गिरफ्तार कर लिया है.

पीड़ित किसान के भतीजे हरलाल सिंह कुर्मी ने बताया कि जालम सिंह के दो बच्चे हैं. कर्ज होने के बारे में परिवार को दो माह पहले ही पता चला. जब खरीफ की फसल की बोवनी के समय 14 जून को आरोपियों ने 50 लोगों के साथ आकर ढाई एकड़ भूमि पर कब्जा कर लिया. उसके बाद ढाई एकड़ भूमि और बची थी. जिसके लिए आरोपी लगातार दबाव बना रहे थे.

उसने बताय, चाचा एक बार 90 हजार रुपए एवं दूसरी बार 40 हजार रुपए दे चुके थे. घटना के दिन 14 अगस्त को दोपहर में चाचा जालम सिंह खुरई गए थे. करीब चार बजे आरोपियों से कहा सुनी हुई थी. उसके बाद आरोपियों ने चाचा को शराब पिलाई. वह घर आ गए. रात में करीब 10.30 बजे आरोपी गांव में आ गए. कमरा खुला था. वह बैठे रहे, जमीन पर कब्जा मांग रहे थे.
करीब रात 11 बजे खटिया पर पेट्रोल डालकर आग लगा दी. चाचा ने रुपए कब लिए थे और क्यों लिए थे इसके बारे में किसी को भी ज्यादा जानकारी नहीं है.
Loading...