उत्तर प्रदेश के आतंकवाद रोधी दस्ते (एटीएस) ने अवैध रूप से टेलीफोन एक्सचेन्ज चलाकर ISI के लिए जानकारी जुटाने के गिरोह का भंडाफोड किया है. पुलिस ने इस मामलें में 11 लोगों को गिरफ्तार किया है, जो आईएसआई के एजेंट हैं.

एटीएस की तरफ से यहां जारी बयान के अनुसार ये गिरफ्तारियां लखनऊ, हरदोई, सीतापुर एवं दिल्ली के महरौली से की गई हैं. बयान के मुताबिक जम्मू कश्मीर सैन्य अभिसूचना इकाई को कुछ भारतीय नम्बरों से जासूसी करने के उद्देश्य से सैन्य इकाइयों के पास फोन आने की सूचना मिली थी. इन नम्बरों की जांच में पाया गया कि अवैध टेलीफोन एक्सचेन्ज के माध्यम से भारत के बाहर से कॉल किए जा रहे हैं.

अवैध टेलीफोन एक्सचेंज में फोन कॉल्स को रूटर के जरिये रूट करके अलग अलग सरकारी विभागों में कॉल की जाती थी. इस गिरोह में शामिल लोग एक्सचेन्ज के जरिये विदेश में बैठे किसी व्यक्ति की भारत में की गयी इन्टरनेट काल को सिम बाक्स के माध्यम वाइस काल में बदल कर बात करा देते थे और हिन्दुस्तानी नंबर पर विदेशी नम्बर की जगह भारत का ही नम्बर दिखता था.

उन्हीं कॉल्स के जरिए सरकारी विभागों से खुफिया जानकारियां जुटाई जाती थी. इसके बारे मे मिलिट्री इंटेलीजेंस यूनिट को जब अंदेशा हुआ तो मामले की शिकायत की गई. गिरफ्तार किये गए लोगों से मिलिट्री इंटेलीजेंस यूनिट, दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल और आईबी के अधिकारी भी पूछताछ कर रहे हैं.

एटीएस के पुलिस महानिरीक्षक असीम अरूण ने बताया कि एटीएस की टीमों ने टर्म सेल के अधिकारियों एवं स्थानीय पुलिस के सहयोग से लखनऊ से रात राहुल रस्तोगी, शिवेन्द्र मिश्रा, हर्षित गुप्ता, विशाल कक्कड़, राहुल सिंह को गिरफ्तार कर उनके पास से तीन लैपटॉप, 12 सिमबाक्स, लगभग 87 सिम, 25 मोबाइल फोन डाटाकार्ड तथा अन्य सहवर्ती संचार सामग्री बरामद किया.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें