लखनऊ: अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी छात्रसंघ तथा डेमोक्रेटिक राइट्स लखनऊ द्वारा प्रोटेस्ट मार्च का आयोज़न किया गया जिसमे भारी संख्या में छात्र उपस्थित रहे जिसका उद्देशय नजीब प्रकरण को लेकर पूरे देश के छात्रों को आगाह किया जाये जिस प्रकार से पिछले 80 दिनों से एक छात्र जेएनयू दिल्ली से लापता है ।

इस मौके पर अध्यक्ष फैजुल हसन ने कहा कि अलीगढ में रेल रोको आन्दोलन के दौरान सेंकडो छात्रों पर पुलिसकर्मियों ने लाठी बरसाईं और घायल छात्रों को जेएन मेडिकल कॉलेज में भरती कराया लेकिन अलीगढ एडमिनिस्ट्रेशन ने दोषी पुलिस कर्मियों पर कोई कार्यवाही की न है हमारी दी गयी FIR दर्ज की है उल्टा 700 छात्रों के ऊपर नामदर्ज़ मुक़द्दमा लगाया है हम इसकी निंदा करते हे और हमारी यह लड़ाई जबतक जारी रहेगी जबतक नजीब को ढूँढकर उनके परिज़नो के हवाले नहीं किया जाये। हम तमाम सेक्युलर पार्टियों से यह आग्रह करते हे कि इस मसले पर हमारा साथ दे और केंद्र सरकार पर दवाब बनाये ताकि उस बूड़ी माँ को उसकी औलाद मिल सके।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उपाध्यक्ष मोहम्मद नदीम अंसारी ने कहा कि जिस प्रकार से विभिन्न एजुकेशनल संस्था के छात्रों को निशाना बनाया जा रहा है हम उसकी निंदा करते हे नजीब से पहले रोहित वेमुला हत्याकाण्ड भी इन्ही आर्गेनाइजेशन्स की देन हे परन्तु सरकारी महकमा इस तरह की संस्थाओ पर कोई प्रतिबन्ध नहीं लगाती सब जानते हैं कि ABVP आदि संस्थाओं के लोगों ने जेएनयू में घुसकर नजीब के साथ मारपीट की है जब से वह लापता है। इस मौके पर सचिव नबील उस्मानी ने ABVP पर जल्द से जल्द प्रतिबन्ध लगाने कि डिमांड की हैं।

उन्होंने आगे बताया कि इसके बाद हम आजमगढ़ तथा दिल्ली में प्रोटेस्ट मार्च का आयोज़न करने जा रहे हे। इस अवसर पर कैबिनेट आसिफ इदरीस कैबिनेट नवेद सिद्दीकी, कैबिनेट गजाला अहमद, पूर्व अध्यक्ष अब्दुल हफीज गाँधी, पूर्व उपाध्यक्ष माज़िन हुसैन, पूर्व कैबिनेट सद्दाम हुसेन, पूर्व कैबिनेट यासिर सिद्दीकी, रशीद, सादिक, फैजान खान, आशीष, गौरव, हिसामुद्दीन, अमित शर्मा, अन,ए शान, दानियाल आदि विशेष रूप से उपस्थित थे।

Loading...