तेलंगाना वक़्फ़ बोर्ड मुस्लिमों के लिए अस्पताल और मेडिकल कॉलेज खोलने का फैसला किया है. हाल ही हज हाउस में हुई बोर्ड की बैठक में इस प्रस्ताव पर विचार किया गया.

बोर्ड के अध्यक्ष मोहम्मद सलीम की अध्यक्षता में हुई बैठक में फैसला लिया गया कि इस मामलें में अब तुरंत मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव और दूसरे मंत्रियों से चर्चा होगी ताकि तुरंत इस पर काम शुरू किया जा सके. प्रस्ताव के तहत फैसला लिया गया कि इस अस्पताल में दिल और किडनी की बीमारी से पीड़ित गरीब मुसलमानों की आर्थिक मदद की जायेगी. साथ ही  तलाकशुदा और विधवा मुस्लिम महिलाओं के लिए पेंशन शुरु करने का भी ऐलान भी किया गया है.

मोहम्मद सलीम ने बताया कि बोर्ड ने पिछले साल दिसंबर में एक आदेश के तहत दरगाह यूसुफैन, अबुल फतेह सईद शाह हसन, शब्बीर मोहम्मद अल हुसैनी के मुतवल्ली पद तीन साल के लिए बढ़ा दिया है. दरअसल मुतवल्ली का कार्यकाल इसी साल जुलाई में खत्म होने वाला था.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इसके अलावा गुट्टाला बेगमपेट मस्जिद के प्रबंधन को सीधे वक्फ़ बोर्ड के अंतर्गत लिया जाएगा, ये फ़ैसला कई सौ करोड़ रुपए की संपत्ति के संरक्षण के लिए किया गया है. वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष ने बताया कि हैदराबाद और रंगारेड्डी में वाणिज्यिक वक्फ संपत्तियों को 30 साल के लिए लीज पर देने के लिए वैश्विक निविदाएं आमंत्रित की जाएँगी. हज हाउस के नवीनीकरण के लिए भी निविदाओं को आमंत्रित किया गया है.

इसी प्रकार दरगाह हजरत जहांगीर पीरान, दरगाह हज़रत जंपाक शहीद और दरगाह बडा पहाड़ की हुंडी के लिए भी निविदाएं आमंत्रित की जाएँगी.

Loading...